महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मिलने पहुंचे अजीत पवार, धनंजय मुंडे व अन्य NCP नेता.

 

एनसीपी नेता अजित पवार ने कहा- राज्यपाल का हमें फोन आया है, उन्होंने हमें मिलने के लिए बुलाया है. किस बात के लिए बुलाया है, इसकी जानकारी नहीं है. अब हम राज्यपाल से मुलाकात करेंगे.

महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात के बाद शिवसेना विधायक आदित्य ठाकरे ने कहा- हमने राज्यपाल को बताया कि हम सरकार बनाने के लिए तैयार हैं. हमने उनसे कम से कम 2 दिन का समय मांगा, लेकिन हमें समय नहीं दिया गया. हम राज्य में सरकार बनाने के प्रयासों में लगे रहेंगे.

आदित्य ठाकरे, एकनाथ शिंदे और शिवसेना के अन्य नेताओं ने मुंबई स्थित राजभवन में महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की.

कांग्रेस शिवसेना और एनसीपी का समर्थन करेगी. दोनों दलों को सूचित कर दिया गया है. अंतिम कार्यवाही की जा रही है: सूत्र.

विधायक बच्चू काडू भी मुंबई स्थित राजभवन पहुंचे हैं. इस दौरान उन्होंने कहा कि हममें से तीन (निर्दलीय विधायक) यहां आए हैं. जो भी उद्धव साहब तय करेंगे, वही मुख्यमंत्री होंगे.

महाराष्ट्र में सरकार गठन के लिए शिवसेना के प्रयास तेज, कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी और उद्धव ठाकरे ने सोमवार शाम को फोन पर बातचीत की.

Load More

महाराष्ट्र में एक बार फिर राजनीती ने जोर पकड़ा है. चुनाव नतीजों के बाद सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी भारतीय जनता पार्टी ने राज्यपाल को बता दिया है कि वह सरकार बनाने में सक्षम नहीं है. अब शिवसेना से पूछा गया है कि क्या वह सरकार बनाना चाहेगी? ऐसे में एक बार फिर शिवसेना, कांग्रेस और NCP एक्टिव हो गए हैं. महाराष्ट्र में राजनीतिक हलचल के बीच शिवसेना नेता संजय राउत ने एक बार फिर ट्वीट कर लिखा है कि रास्ते की परवाह करूंगा तो मंजिल बुरा मान जाएगी. इससे साफ पता चल रहा है कि पार्टी का लक्ष्य मुख्यमंत्री पद है.

वहीं गुरु नानक देव के 550वें प्रकाश पर्व के मौके पर दिल्ली सरकार ने 11 और 12 नवंबर को ऑड-ईवन न‍ियमों में छूट देने की घोषणा की है. इन दो दिनों में दिल्ली में उत्सव जैसा माहौल रहेगा. दिल्ली के सिख समुदाय ने गुरुपर्व और नगर कीर्तन के दौरान 11 और 12 नवंबर को ऑड-ईवन में छूट देने की मांग की थी. दिल्ली सरकार ने इसपर गंभीरता से विचार किया और यह फैसला लिया.

आज के सभी मुख्य समाचार और ब्रेकिंग न्यूज पढ़ने के लिए हमारे साथ जुड़े रहें.

वहीं कश्मीर घाटी में पिछले तीन महीने से बंद रेल सेवा बहाल की जाएगी. जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद संभावित खतरों को देखते हुए रेल सेवा बंद की गई थी. 10 नवंबर को ट्रेनों के ट्रायल रन की इजाजत दी गई थी और इसे 11 नवंबर से पूरी तरह बहाल करने का निर्देश दिया गया था. बीते 5 अगस्त को उत्तर कश्मीर के बारामुला से दक्षिण कश्मीर के बनिहाल तक रेल सेवा रोक दी गई थी. जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद यह फैसला लिया गया था. जम्मू-कश्मीर और लद्दाख 31 अक्टूबर से संघ शासित क्षेत्र के रूप में अस्तित्व में आ गए हैं.