पीएम ने कहा, आज तक कोई चुनाव ऐसा नहीं गया, जिसमें महंगाई मुद्दा न रही हो. लेकिन इस चुनाव में कहीं भी महंगाई पर बात नहीं हुई. उन्होंने कहा, पहले भ्रष्टाचार के नाम पर चुनाव लड़े गए. लेकिन इस चुनाव में कोई भी भ्रष्टाचार का दाग सत्ताधारी पार्टी पर नहीं लगा.

पीएम ने कहा, आज तक कोई चुनाव ऐसा नहीं गया, जिसमें महंगाई मुद्दा न रही हो. लेकिन इस चुनाव में कहीं भी महंगाई पर बात नहीं हुई. उन्होंने कहा, पहले भ्रष्टाचार के नाम पर चुनाव लड़े गए. लेकिन इस चुनाव में कोई भी भ्रष्टाचार का दाग सत्ताधारी पार्टी पर नहीं लगा.

पीएम ने कहा, आज तक कोई चुनाव ऐसा नहीं गया, जिसमें महंगाई मुद्दा न रही हो. लेकिन इस चुनाव में कहीं भी महंगाई पर बात नहीं हुई. उन्होंने कहा, पहले भ्रष्टाचार के नाम पर चुनाव लड़े गए. लेकिन इस चुनाव में कोई भी भ्रष्टाचार का दाग सत्ताधारी पार्टी पर नहीं लगा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पार्टी कार्यालय में फूलों की बारिश के साथ जोरदार स्वागत किया गया. उनके साथ बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह भी हैं। पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने फूलों के गुलदस्ते के साथ स्वागत किया.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पार्टी कार्यालय में फूलों की बारिश के साथ जोरदार स्वागत किया गया. उनके साथ बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह भी हैं। पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने फूलों के गुलदस्ते के साथ स्वागत किया.

अमित शाह ने कहा कि आजादी के बाद पहली बार इस तरह की ऐतिहासिक विजय के लिए मैं भारतीय जनता पार्टी की ओर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का धन्यवाद करता हूं.

नई दिल्ली. भोपाल लोकसभा सीट से कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) चुनाव हार गए हैं. बीजेपी प्रत्याशी प्रज्ञा सिंह ठाकुर (Sadhvi Pragya Singh Thakur) ने उन्हें साढ़े 3 लाख से ज्यादा वोटों से हरा दिया है. बताना चाहते है कि भोपाल लोकसभा क्षेत्र (Bhopal Lok Sabha Seat) में 8 विधानसभा सीट हैं. प्रज्ञा सिंह ठाकुर को इनमें से 6 में जीत मिली जबकि दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) सिर्फ दो विधानसभा सीट पर लीड ले पाए. दिग्विजय सिंह भोपाल उत्तर और मध्य सीट पर जीते. दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) ने कहा कि मैं अपनी हार स्वीकार करता हूं.

लोकसभा चुनाव 2019 के नतीजे अब साफ हैं, देश में नरेंद्र मोदी एक बार फिर सरकार बना रहे हैं. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर नरेंद्र मोदी को बधाई दी और इसके साथ ही उन्होंने अमेठी में अपनी हार भी स्वीकार कर ली है. नतीजों के बाद राहुल ने लाइव प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ‘आज स्मृति जी अमेठी में जीती हैं, मैं उन्हें बधाई देता हूं’. खास बात ये है कि अभी तक अमेठी के नतीजे सामने नहीं आए हैं, लेकिन राहुल ने पहले ही हार मान ली है.

नई दिल्ली. लोकसभा चुनाव 2019 के नतीजे आना शुरू हो गए हैं और रुझान बता रहे हैं कि बीजेपी (BJP) एक बार फिर भारी मतों से विजयी होने जा रही है. हर तरफ से पीएम मोदी (PM Modi) को जीत की बधाईयां मिल रही है.दूसरी तरफ प्रधानमंत्री मोदी (Prime Minister Modi) ने अपने नाम के आगे से चौकीदार हटा लिया है. साथ ही कहा कि नाम की मर्यादा बनी रहेगी. पीएम मोदी (PM Modi) ने बाकि नेताओं से भी अपील की है कि वे अपने नाम के आगे से चौकीदार हटा लें.

Load More

लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) में जीत का ताज किसके सर सजेगा इसका फैसला आज गुरुवार को हो जाएगा. देश की सियासत 5 साल किस पार्टी के पास रहेगी इसके लिए वोटिंग का काउनडाउन बस अब कुछ देर में शुरू होने वाला है. वोटो की गिनती के साथ ही देश की जनता की पसंद सब के सामने होगी. आज सुबह 8 बजे से लोकसभा की 542 संसदीय सीटों के लिए मतगणना शुरु हो रही है. इसके अलावा देश के चार राज्यों आंध्र प्रदेश, ओडिशा, सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश विधानसभा सीटों के लिए भी आज ही वोटों की गिनती की जानी है.

बता दें कि एग्जिट पोल (Exit Poll) के अनुसार देश में एक बार फिर मोदी सरकार बनने जा रही है. सभी एग्जिट पोल बीजेपी को बहुमत मिलता दिखा रहे हैं. हालांकि विपक्ष एग्जिट पोल को मानने के लिए तैयार नहीं है. विपक्षी दलों ने एग्जिट पोल के नतीजों को खारिज करते हुए अपनी अपनी जीत का दावा किया है.

लोकसभा चुनाव 2014 में बीजेपी ने अकेले 282 सीटें जीती थीं, जबकि कांग्रेस महज 44 सीटों पर सिमट गई थी. बीजेपी का यही जादू इस बार भी बरकरार रह पाता है या नहीं मोदी लहर देश में अभी भी है या कोई अन्य पार्टी देश की जनता का भरोसा जीतने में कामयाब हुई है यह आज शाम तक साफ हो जाएगा.

2019 का लोकसभा चुनाव सात चरणों में लड़ा गया. 11 अप्रैल को पहले चरण के लिए वोट डाले गए तो 19 मई को आखिरी चरण का मतदान हुआ. पहले चरण में 91, दूसरे में 97, तीसरे में 117, चौथे में 71, पांचवें में 51 और छठे-सातवें में 59-59 सीटों पर वोट डाले गए. 543 सीटों में से कुल 542 सीटों पर ही मतदान हो पाया था, तमिलनाडु की वेल्लोर सीट पर सुरक्षा कारणों की वजह से मतदान टाला गया था.