फेसबुक के डेटा में फिर लगी सेंध, 81,000 यूजर्स के मैसेज हुए सार्वजनिक: रिपोर्ट
फेसबुक (Photo Credits: PTI)

नई दिल्ली: पिछले काफी लंबे समय से डेटा चोरी के मामले में फंसा फेसबुक अभी भी यूजर्स की प्राइवेसी को लेकर कुछ नहीं कर पा रहा है. बीबीसी की एक रिपोर्ट के अनुसार, तकरीबन 81 हजार यूजर्स के निजी मैसेज में सेंध लगी है. यह अकाउंटस न सिर्फ हैक किए गए हैं बल्कि उन अकाउंट्स के प्राइवेट मेसेजेस को बेचा भी जा रहा है. हैकर्स ने इन अकाउंट्स का इस्तेमाल विज्ञापन के लिए किया है. रिपोर्ट की मानें तो यूजर्स के निजी संदेशों में इस बार बड़ी सेंधमारी हुई है, यूजर्स के निजी चैट को सार्वजनिक किया गया है.

रिपोर्ट के मुतबिक हैक हुए अकाउंट्स में अधिकतर अकाउंट यूक्रेन और रूस के हैं. इसके अलावा हैक होने वाले अकाउंट्स में अमेरिका, ब्रिटेन और ब्राजील के लोगों के भी अकाउंट शामिल हैं. डेटा लीक के बाद ऑनलाइन एक विज्ञापन भी दिया गया है जिसमें कहा गया है कि एक यूजर्स के पूरे मैसेज का एक्सेस सिर्फ 0.10 डॉलर यानि करीब 7.29 रुपये में दिया जाएगा. इनमें से सैंपल के लिए 81,000 लोगों के मैसेज को सार्वजनिक भी कर दिया गया है. हालांकि इस विज्ञापन को अब हटा लिया गया है.

बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक हैकर्स के पास करीब 120 मिलियन फेसबुक यूजर्स का निजी डेटा है और वह 0.10 डॉलर यानि करीब 7.29 रुपये प्रति अकाउंट बेचने की सोच रहा है.

एक तरफ जहां बीबीसी इस बड़ी सेंधमारी का दावा कर रहा है, वहीं दूसरी तरफ फेसबुक का कहना है कि यह रिपोर्ट निराधार है और किसी प्रकार का डाटा लीक नहीं हुआ है. हालांकि फेसबुक ने यह जरूर माना है कि फेसबुक यूजर्स का निजी डाटा वायरस वाले एक्सटेंशन के जरिए हैकर्स तक पहुंचा है.

यूजर्स ने स्वीकारी मैसेजेस के सार्वजनिक होने की बात

बीबीसी की रूसी सर्विस ने इसकी पुष्टि के लिए पांच ऐसे फेसबुक मेंबर्स से संपर्क किया जिनके प्राइवेट मैसेजेस बेचे जा रहे थे. इस जांच में सामने आया कि बेचे जा रहे मेसेजेस उन्हीं के हैं. इन मेसेजेस में न सिर्फ टेक्स्ट था बल्कि कुछ तस्वीरें भी शामिल थीं. इस रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि यूजर्स के निजी मैसेजेस मैलवेयर वेबसाइट्स और ब्राउजर एक्सटेंशन्स से लिए गए होंगे.