MP Shocker: दहेज न लाने पर पति ने पत्नी को जबरदस्ती पिलाया तेजाब, महिला की हालत गंभीर, डीसीडब्ल्यू प्रमुख स्वाति मालीवाल ने की सख्त कार्रवाई की मांग
प्रतिकात्मक तस्वीर (Photo Credit-PTI)

ग्वालियर, 21 जुलाई: मध्य प्रदेश के ग्वालियर जिले में एक चौंकाने वाली घटना में एक 25 वर्षीय महिला को उसके पति और ननद ने कथित तौर पर तेजाब पीने के लिए मजबूर किया. महिला का दिल्ली के एक अस्पताल में इलाज चल रहा है और उसकी हालत गंभीर है. यह घटना 28 जून की है. पीड़िता के पड़ोसी ने उसे नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया. हालांकि महिला की हालत बिगड़ने पर उसे इलाज के लिए दिल्ली शिफ्ट कर दिया गया है. पीड़िता का आरोप है कि उसके पति के दूसरी महिला से अवैध संबंध हैं. उसके अनुसार, जब उसे अपने पति के विवाहेतर संबंध के बारे में पता चला तो उसके पति ने उसे बुरी तरह पीटा. महिला के भाई ने घटना की जानकारी दिल्ली महिला आयोग (डीसीडब्ल्यू) को दी. यह भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश के रामपुर में ससुराल वाले बने हैवान, दहेज न मिलने पर मां और तीन महीने की बेटी को जिंदा जलाकर मारा

गौरतलब है कि घटना के कुछ दिनों बाद महिला के पति वीरेंद्र जाटव और अन्य आरोपियों पर उसकी मां की शिकायत के आधार पर दहेज अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है. बताया जा रहा है कि आरोपियों के खिलाफ कोई सख्त कार्रवाई नहीं की गई है. शिकायत 4 जुलाई को दर्ज की गई थी. पीड़िता ने अप्रैल 2021 में जाटव से शादी की थी. सीएनएन न्यूज 18 द्वारा प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, पीड़िता के परिवार ने शादी में 10 लाख रुपये खर्च किए, लेकिन बाद में पति ने कार खरीदने के लिए महिला को माता से तीन लाख रुपये लेने के लिए कहा.

देखें ट्वीट:

डीसीडब्ल्यू प्रमुख स्वाति मालीवाल ने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मामले में सख्त कार्रवाई की मांग की है. उन्होंने मामले को असंवेदनशील तरीके से संभालने वाले पुलिस अधिकारियों के खिलाफ भी कार्रवाई की मांग की है. मालीवाल और डीसीडब्ल्यू सदस्य प्रोमिला गुप्ता ने भी अस्पताल में पीड़िता से मुलाकात की. डीसीडब्ल्यू के हस्तक्षेप के बाद मप्र पुलिस हरकत में आई. डीसीडब्ल्यू प्रमुख ने कहा कि महिला की खाने की नली, पेट और आंतें जल गई हैं और दिखाई दे रही हैं. पीड़िता अब न तो पी सकती है और न ही कुछ खा सकती है और साथ ही महिला को बहुत खून की उल्टी भी हो रही है.

मालीवाल ने कहा, "डॉक्टरों को महिला के ठीक होने की उम्मीद नहीं है क्योंकि उसकी हालत बहुत खराब है. यह शर्म की बात है कि मध्य प्रदेश पुलिस ने इस तरह के गंभीर मामले को असंवेदनहीनता के साथ निपटाया. मैंने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री को एक पत्र लिखा है. दोषियों को गिरफ्तार करने और मामले को कमजोर करने की कोशिश करने वाले पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई सुनिश्चित करने के लिए कहा. ” महिला ग्वालियर के घाटीगांव क्षेत्र के सिमरिया की रहने वाली है.