CBSE 10th Result 2021: केंद्रीय विद्यालयों के सभी छात्र हुए सफल तो विदेशी छात्रों का रिजल्ट भी 99.92% रहा, जानें अन्य शहरों के कैसे रहें नतीजे
छात्र (Photo Credits: PTI)

नई दिल्ली, 3 अगस्त : सीबीएसई ने कक्षा 10 के परिणाम घोषित कर दिए हैं. मंगलवार दोपहर 12 बजे दसवीं के नतीजे घोषित किए गए. छात्र अपना परिणाम सीबीएसई की आधिकारिक वेबसाइट और डिजिलॉकर पर देख सकते हैं. सीबीएसई दसवीं बोर्ड के नतीजों में त्रिवेंद्रम क्षेत्र 99.99 फीसदी रिजल्ट के साथ सबसे आगे है. सीबीएसई 10वीं बोर्ड के रिजल्ट में 98.89 प्रतिशत छात्र और 99.24 फीसदी छात्राएं पास हुई हैं. लड़कियों का पास प्रतिशत लड़को के मुकाबले 0.35 फीसदी अधिक है. इस बार सीबीएसई 10वीं के लिए करीब 18 लाख बच्चों ने रजिस्ट्रेशन कराया था. दसवीं में दिल्ली क्षेत्र के 98.19 फीसदी छात्र पास हुए हैं. विदेशी छात्रों का रिजल्ट 99.92 प्रतिशत रहा है. केंद्रीय विद्यालयों का रिजल्ट 100 फीसदी रहा है.

गौरतलब है कि इससे पहले बीते शुक्रवार को सीबीएसई बोर्ड 12वीं कक्षा के नतीजे घोषित कर चुका है. सुरक्षा के मद्देनजर सीबीएसई रजिस्ट्रेशन में मोबाइल नंबर और ओटीपी रखा गया है. छात्र दसवीं कक्षा का रिजल्ट जानने के लिए सीबीएसई की आधिकारिक वेबसाइट पर जा सकते हैं. यहां उन्हें अपने रोल नंबर के माध्यम से रिजल्ट देखने की सुविधा दी गई है. इसके अलावा उमंग ऐप पर भी रिजल्ट देखा जा सकता है. डिजिटल लॉकर में छात्र अपनी मार्कशीट सुरक्षित स्टोर कर सकते हैं. यह भी पढ़ें : Maharashtra HSC Result 2021 Declared: महाराष्ट्र एचएससी के रिजल्ट mahresult.nic.in पर जारी, ऐसे करें चेक

त्रिवेंद्रम 99.99 फीसदी रिजल्ट के साथ देश भर में अव्वल नंबर पर है. दूसरे नंबर पर 99.96 पास प्रतिशत के साथ बेंगलुरु है. 99.94 प्रतिशत के साथ चेन्नई तीसरे, पुणे 99.92 प्रतिशत के साथ तीसरे, अजमेर 99.88 प्रतिशत के साथ चौथे और पंचकूला 99.77 प्रतिशत के साथ पांचवे स्थान पर है. पटना 99.66 प्रतिशत के साथ छठे स्थान पर है. भुवनेश्वर 99.62 प्रतिशत के साथ सातवें स्थान पर, भोपाल 99.47 प्रतिशत के साथ आठवें स्थान पर और चंडीगढ़ 99.46 फीसदी के साथ नौवें स्थान पर आया है. दिल्ली क्षेत्र के 98.19 छात्र सीबीएसई 10वीं बोर्ड की परीक्षा में पास हुए है. सीबीएसई 12वीं का रिजल्ट पहले ही घोषित कर कर चुका है. कोरोना महामारी और देश के अलग-अलग राज्यों में लगाए गए लॉकडाउन के कारण 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं रद्द करनी पड़ी थीं. इसको देखते हुए सीबीएसई ने इस वर्ष 10वीं एवं 12वीं बोर्ड के छात्रों का रिजल्ट आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर तैयार किया है.