Anant Chaturdashi 2020 Wishes & HD Wallpapers: भगवान विष्णु के इन खूबसूरत GIF Images, Photos, WhatsApp Stickers, Facebook Greetings के जरिए दोस्तों-रिश्तेदारों को दें अनंत चतुर्दशी की बधाई
हैप्पी अनंत चतुर्दशी 2020 (Photo Credits: File Image)

Anant Chaturdashi 2020 Wishes & HD Wallpapers: हिंदू पंचांग के अनुसार भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि को अनंत चतुर्दशी (Anant Chaturdashi) कहा जाता है, जिसका हिंदू धर्म में विशेष महत्व बताया जाता है. इस दिन जगत के पालनहार भगवान विष्णु (Lord Vishnu) के अनंत रूप (Anant Roop) की पूजा की जाती है, इसलिए इसे अनंत चौदस (Anant Chaudas) भी कहा जाता है. इसके अलावा यह तिथि इसलिए भी बेहद खास है, क्योंकि इसी दिन दस दिवसीय गणेशोत्सव (Ganeshotsav) का समापन भी होता है. इस साल अनंत चतुर्दशी की यह पावन तिथि 1 सितंबर 2020 (मंगलवार) को पड़ रही है. कहा जाता है कि इस व्रत को करने से भक्तों को भगवान विष्णु की कृपा प्राप्त होती है. धार्मिक मान्यता के अनुसार 14 वर्ष तक लगातार इस व्रत को करने से व्यक्ति को मृत्यु के उपरांत वैकुंठ धाम की प्राप्ति होती है.

अनंत चतुर्दशी पर भगवान विष्णु की पूजा करने के बाद हाथ में अनंत सूत्र बांधने की परंपरा है, जिसमें चौदह गांठें होनी चाहिए. इस शुभ अवसर पर आप अपने दोस्तों-रिश्तेदारों को सोशल मीडिया के जरिए बधाई दे सकें, इसलिए हम लेकर आए हैं भगवान विष्णु के खूबसूरत जीआईएफ इमेज, फोटोज, वॉट्सऐप स्टिकर्स, फेसबुक ग्रीटिंग, विशेज और एचडी वॉलपेपर्स, जिनके जरिए आप इस पर्व की शुभकामनाएं दे सकते हैं.

1- हैप्पी अनंत चतुर्दशी 2020

हैप्पी अनंत चतुर्दशी 2020 (Photo Credits: File Image)

2- हैप्पी अनंत चतुर्दशी 2020

हैप्पी अनंत चतुर्दशी 2020 (Photo Credits: File Image)

3- हैप्पी अनंत चतुर्दशी 2020

हैप्पी अनंत चतुर्दशी 2020 (Photo Credits: File Image)

यह भी पढ़ें: Anant Chaturdashi 2020: गणेश विसर्जन से लेकर भगवान विष्णु के अनंत रूप तक, जानें अनंत चतुर्दशी से जुड़ी पौराणिक कथा, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और महत्व

4- हैप्पी अनंत चतुर्दशी 2020

हैप्पी अनंत चतुर्दशी 2020 (Photo Credits: File Image)

5- हैप्पी अनंत चतुर्दशी 2020

हैप्पी अनंत चतुर्दशी 2020 (Photo Credits: File Image)

इस व्रत से जुड़ी पौराणिक कथा के अनुसार, सबसे पहले अनंत चतुर्दशी का व्रत पांडवों ने किया था. कहा जाता है कि महाभारत के युद्ध से पहले जब पांडवों ने जुआ खेला था, तब वे अपना सारा राजपाट जुए में हार गए थे. इसके बाद उन्होंने श्रीकृष्ण से प्रार्थना करते हुए अपना राजपाट फिर से प्राप्त करने का उपाय पूछा, तब श्रीकृष्ण ने उन्हें अनंत चतुर्दशी का व्रत रखकर भगवान विष्णु की पूजा करने का सुझाव दिया. इस व्रत के प्रभाव से पांडवों को उनका राजपाठ फिर से प्राप्त हो गया था. कहा जाता है कि इस व्रत से माता लक्ष्मी भी प्रसन्न होती हैं.