विदेश की खबरें | श्रीलंका में ईस्टर पर हुए सिलसिलेवार धमाकों के लिए पूर्ववर्ती सरकार जिम्मेदार : राष्ट्रपति राजपक्षे

कोलंबो, 25 नवंबर श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने वर्ष 2019 में ईस्टर के मौके पर देश में हुए सिलसिलेवार धमाकों के लिए पूर्ववर्ती सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। इन धमाकों में 11 भारतीयों सहित करीब 270 लोगों की मौत हो गई थी।

उल्लेखनीय है कि इस्लामिक स्टेट से जुड़े स्थानीय चरपंथी समूह नेशनल तौहीद जमात (एटीजे) के नौ आत्मघाती हमलावरों ने वर्ष 2019 में ईस्टर रविवार को समन्वित हमला किया था और तीन गिरिजाघरों और कई होटलों को निशाना बनाया था। इस हमले में 270 लोगों की मौत के साथ करीब 500 लोग घायल हुए थे।

राष्ट्रपति राजपक्षे ने कहा कि जो उनपर बम धमाके के जिम्मेदार लोगों पर तेजी से कार्रवाई करने का दबाव बना रहे हैं उन्हें ऐसी मांग करने के दौरान सतर्क रहना चाहिए। उन्होंने चेतावनी दी कि उनकी सरकार अगर जरूरत हुई तो आलोचकों के खिलाफ भी ‘कड़ी कार्रवाई’ करेगी।

राजपक्षे ने बुधवार को एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा,‘‘ अगर वे त्वरित कार्रवाई चाहते हैं, तो हम इसके लिए जिम्मेदार लोगों के नागरिक अधिकार को वापस लेने के लिए संसद का रुख कर सकते हैं।’’

राष्ट्रपति ने कहा कि न्यायिक प्रक्रिया चल रही है और उनकी सरकार इसमें हस्तक्षेप नहीं करेगी। राजपक्षे ने पूर्ववर्ती सरकार पर राष्ट्रीय सुरक्षा की अनदेखी करने का आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होंने वर्ष 2015 से पहले स्थापित खुफिया तंत्र को बर्बाद कर दिया था।

राजपक्षे ने कहा, ‘‘ उन्होंने (पूर्ववर्ती सरकार) राष्ट्रीय सुरक्षा को बर्बाद कर दिया। आयोग ने अपनी रिपोर्ट में स्पष्ट तौर पर कहा है कि पूर्व राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और मंत्रिमंडल हमले के लिए जिम्मेदार है।’’ उन्होंने यह बात पूर्व राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना द्वारा गठित प्रेसिडेंशियल जांच आयोग की रिपोर्ट का हवाला देते हुए कही।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)