देश की खबरें | कोविड-19 प्रबंधन : सिद्धरमैया ने कानून कार्रवाई की भाजपा की धमकी का मखौल उड़ाया
एनडीआरएफ/प्रतीकात्मक तस्वीर (Photo Credits: ANI)

बेंगलुरु, एक अगस्त कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धरमैया ने सत्तारूढ़ भाजपा पर राज्य में कोरोना वायरस प्रबंधन में 2,000 करोड़ रुपये के भ्रष्टाचार करने के आरोप को लेकर स्वयं को मिली मुकदमा दर्ज कराने की धमकी का मखौल उड़ाया।

सिद्धरमैया ने मैसुरु में पत्रकारों से कहा, ‘‘ उन्हें नोटिस भेजने दीजिए। क्या मैं वकील नहीं हूं? क्या मैं इस तरह के नोटिस के महत्व को नहीं जानता?’’

यह भी पढ़े | आदिवासी महिला के साथ बलात्कार, सीआरपीएफ के तीन कर्मी निलंबित, कैंप कमांडर पर भी कार्रवाई.

कर्नाटक में विधायक दल के नेता की जिम्मेदारी निभा रहे सिद्धरमैया, भाजपा के राज्य महासचिव एवं विधान पार्षद एन रवि कुमार द्वारा शुक्रवार को पार्टी द्वारा कानूनी नोटिस देने के बयान पर प्रतिक्रिया दे रहे थे।

सिद्धरमैया ने पिछले हफ्ते आरोप लगाया था कि सरकार ने कोविड-19 को लेकर 4,167 करोड़ रुपये खर्च किए है जिनमें से कम से कम दो हजार करोड़ रुपये मंत्रियों और नेताओं की जेब में गए हैं।

यह भी पढ़े | असम: पिछले 24 घंटे में COVID-19 के 1,457 नए मामले सामने आए : 1 अगस्त 2020 की बड़ी खबरें और मुख्य समाचार LIVE.

भाजपा ने इन आरोपों को न केवल खारिज किया बल्कि कांग्रेस नेता के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने का भी फैसला किया।

सिद्धरमैया ने माखौल उड़ाते हुए कहा कि सरकार से सवाल पूछने का जवाब भाजपा कानूनी नोटिस के साथ देती है।

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा,‘‘ मैंने कोविड-19 प्रबंधन को लेकर सरकार पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया, लेकिन कोई रवि कुमार है जिन्होंने कहा कि वह मुझे कानूनी नोटिस भेजेंगे। उन्हें भेजने दीजिए, हम उसका सामना करेंगे।’’

रवि कुमार ने भ्रष्टाचार पर सिद्धरमैया द्वारा सवाल करने की योग्यता पर भी सवाल उठाया था जिन्होंने स्वयं कथित रूप से मंहगी स्विस घड़ी पर कोई जवाब नहीं दिया था।

इसके जवाब में सिद्धरमैया ने कहा कि भ्रष्टाचार रोधी ब्यूरो द्वारा क्लीनचिट दिए जाने के बाद वह मामला अब बंद हो चुका है।

उन्होंने कहा, ‘‘ मैं सरकार को घड़ी लौटा चुका हूं।’’

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)