जरुरी जानकारी | भारत-यूएई व्यापार समझौते से पैदा होंगे रोजगार के व्यापक अवसरः गोयल

मुंबई, 13 मई वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार को कहा कि भारत और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के बीच व्यापक व्यापार समझौता देश में रोजगार के बड़े अवसर पैदा करने और घरेलू अर्थव्यवस्था के विकास को बढ़ावा देने में मदद करेगा।

इस द्विपक्षीय समझौते से माल में द्विपक्षीय व्यापार को 100 अरब अमेरिकी डॉलर से अधिक और सेवाओं में व्यापार को पांच वर्षों के भीतर 15 अरब अमेरिकी डॉलर से अधिक तक बढ़ाने की उम्मीद है।

समझौते को आधिकारिक तौर पर व्यापक आर्थिक भागीदारी समझौते (सीईपीए) का नाम दिया गया है। यह एक मई से लागू हो गया है।

गोयल ने यहां यूएई के अर्थव्यवस्था मंत्री अब्दुल्ला बिन तोक अल मारी के साथ मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि यह समझौता कई क्षेत्रों मसलन कपड़ा, रत्न तथा आभूषण, औषधीय और कृषि जैसे उत्पादों के लिए प्रवेश द्वार है।

उन्होंने कहा कि इस साझेदारी से दोनों देशों के द्विपक्षीय व्यापार के लगभग 250 अरब अमेरिकी डॉलर तक जाने का अनुमान है।

गोयल ने कहा, "यह साझेदारी यूएई के अलावा अफ्रीकी क्षेत्र में भी आर्थिक विकास और नौकरियों को काफी बढ़ावा देगा।"

उन्होंने कहा कि यह समझौता न केवल यूएई बल्कि अन्य देशों में भी भारतीय व्यवसायों के लिए द्वार खोलेगा क्योंकि यूएई, अफ्रीका के बड़े हिस्से, स्वतंत्र राज्यों के राष्ट्रमंडल (सीआईएस) देशों और खाड़ी क्षेत्र के लिए एक पारगमन बिंदु है।

सीआईएस देशों में आर्मेनिया, अजरबैजान, बेलारूस, जॉर्जिया, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, माल्दोवा, रूस और ताजिकिस्तान शामिल हैं।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)