जरुरी जानकारी | एडीबी ने बेंगलूरू विद्युत वितरण प्रणाली के उन्नयन के लिये 19 करोड़ डालर का कर्ज मंजूर किया

नयी दिल्ली, चार दिसंबर एशियाई विकास बैंक (एडीबी) ने कर्नाटक की राजधानी बेंगलूरू की विद्युत वितरण प्रणाली के आधुनिकीकरण और उन्नयन के लिये 19 करोड़ डालर (1,400 करोड़ रुपये से अधिक) का कर्ज मंजूर किया है।

एडीबी की शुक्रवार को जारी विज्ञप्ति में कहा गया है, ‘‘भारत में कर्नाटक राज्य की राजधानी बेंगलूरू की विद्युत वितरण प्रणाली के आधुनिकीकरण और उन्नयन के लिये एडीबी ने सावरेन और गैर- सरकारी कुल मिलाकर 19 करोड़ डालर का कर्ज मंजूर किया है।’’

यह भी पढ़े | Mika Singh ने कंगना रनौत की देश भक्ति पर उठाया सवाल, कहा-आप एक्टिंग करो ना यार.

एडीबी की ओर से बेंगलूरू समार्ट एनर्जी एफीसिऐंट पावर डिस्ट्रीब्यूशन प्रोजैक्ट के लिये 10 करोड़ डालर का सावरेन कर्ज और बेंगलूरू इलेक्ट्रिसिटी सप्लाई कंपनी लिमिटेड (बेसकॉम) के लिये नौ करोड़ डालर का बिना सरकारी गारंटी वाला रिण मंजूर किया गया है।

बेसकॉम कर्नाटक की पांच सरकारी स्वामित्व वाली विद्युत वितरण कंपनियों में से एक और सबसे बड़ी कंपनी है।

यह भी पढ़े | 7th Pay Commission: यहां लाखों कर्मचारियों को मिला नए साल का तोहफा, 1 जनवरी 2021 से मिलेगा फायदा.

एडीबी के दक्षिण एशिया क्षेत्र के प्रधान ऊर्जा विशेषज्ञ तेरूहिसा ओई ने कहा, ‘‘हमारा मानना है कि इस परियोजना से बेंगलूरू के निवासियों को बिजली की बेहतर आपूर्ति और कुशल वितरण हो सकेगा। इससे भारत सरकार की ऊर्जा- सक्षम वितरण नेटवर्क बनाने की रणनीति को समिार्न मिलेगा।’’

एडीबी ने कहा है कि इस परियोजना के तहत 7,200 किलोमीटर विद्युत लाइनों को धरती के ऊपर खंबों से ले जाने के बजाय भूमिगत केबल के जरिये गंतव्य तक पहुंचाया जायेगा। इसके साथ ही 2,800 किलोमीटर फाइबर आप्टिक संचार केबल को भी बिछाया जायेगा। विद्युत वितरण लाइनों को भूमिगत बिछाये जाने से उन्हें प्राकृतिक आपदाओं और विभिन्न प्रकार के हस्तक्षेप से बचाया जा सकता है। इससे बिजली के तकनीकी और वाणिज्यिक नुकसान को करीब 30 प्रतिशत तक कम किया जा सकता है।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)