Frank Kameny Google Doodle: फ़्रैंक कैमिनी को गूगल ने ख़ास डूडल बनाकर किया सम्मानित, जानें क्यों अमेरिकी सरकार को उनसे मांगनी पड़ी थी माफ़ी
फ़्रैंक कैमिनी गूगल डूडल (Photo Credits: Google)

गूगल (Google) ने बुधवार को अमेरिकी (American) खगोलशास्त्री (astronomer), द्वितीय विश्व युद्ध के दिग्गज और समलैंगिक अधिकार कार्यकर्ता (gay rights activist) डॉ फ्रैंक कैमिनी का खास डूडल बनाकर सम्मानित किया है. जून महीने को विश्व स्तर पर 'प्राइड मंथ' भी कहा जाता है. गूगल के होमपेज पर जो इमेज है, उसमें कैमिनी को एक रंगीन माला पहने हुए दिखाया गया है. यह भी पढ़ें: Spring Season Google Doodle 2021: गूगल ने वसंत ऋतू की शुरुआत पर शानदार डूडल बनाकर किया सेलिब्रेट

Google कैमिनी को "यूएस एलजीबीटीक्यू अधिकार आंदोलन के सबसे प्रमुख फिगर में से एक" के रूप में वर्णित करता है और "दशकों की प्रगति के लिए साहसपूर्वक मार्ग प्रशस्त करने के लिए" उनका धन्यवाद करता है. कैमिनी का जन्म 21 मई, 1925 को क्वींस, न्यूयॉर्क में हुआ था. उन्होंने भौतिकी का अध्ययन करने के लिए 15 साल की छोटी उम्र में क्वींस कॉलेज में दाखिला लिया. कैमिनी ने हार्वर्ड विश्वविद्यालय से खगोल विज्ञान में डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त करने से पहले द्वितीय विश्व युद्ध में लड़ाई लड़ी. 1957 में, वह आर्मी मैप सर्विस के साथ एक खगोलशास्त्री बन गए, लेकिन सरकार द्वारा LGBTQ समुदाय के सदस्यों को संघीय रोजगार से प्रतिबंधित करने के कुछ महीने बाद अपनी नौकरी खो दी.

कैमिनी ने अमेरिका में पहले समलैंगिक अधिकारों की वकालत करने वाले समूहों का आयोजन किया. 1970 के दशक की शुरुआत में, उन्होंने अमेरिकन साइकियाट्रिक एसोसिएशन के समलैंगिकता के वर्गीकरण को एक मानसिक विकार के रूप में चुनौती दी.

आर्मी मैप सर्विस से निकाले जाने के 50 से अधिक वर्षों के बाद, साल 2009 में अमेरिकी सरकार ने औपचारिक रूप से कैमिनी से माफी मांगी. जून 2010 में वाशिंगटन डीसी ने ड्यूपॉन्ट सर्कल के पास 17 वीं स्ट्रीट एनडब्ल्यू के एक खंड का नाम "फ्रैंक कामेनी वे (Frank Kameny Way)" रखा.