Telangana: आर्मी ऑफिसर बताकर शख्स ने ठगे 6 करोड़ रुपए, 17 परिवारों को बनाया शिकार
आरोपी शख्स, (फोटो क्रेडिट्स: ANI)

आंध्र प्रदेश के रहने वाले एक 42 वर्षीय व्यक्ति को शनिवार को हैदराबाद में भारतीय सेना में मेजर बनकर शादी प्रस्ताव के बहाने 17 परिवारों को धोखा देने के आरोप में गिरफ्तार किया गया. पुलिस के अनुसार मुदावथ श्रीनू नाइक (Mudavath Srinu Naik), उर्फ श्रीनिवास चौहान (Srinivas Chowhan) जो प्रकाशम जिले के मुंडलामुरु मंडल में केलामपल्ली गाँव का रहने वाला है उसने शादी के बहाने कथित तौर पर 17 महिलाओं को धोखा दिया और उनके परिवारों से 6.61 करोड़ रुपये ऐंठ लिए. पुलिस ने उसके पास से तीन डमी पिस्तौल, तीन जोड़ी सेना की वर्दी, एक नकली आर्मी आईडी, नकली मास्टर्स की डिग्री, 4 फोन्स, तीन कारें और 85 हजार कैश जब्त किये. यह भी पढ़ें: फर्जी IFS अधिकारी बनकर जोया खान नाम की महिला पुलिस से ले रही थी सुरक्षा, अफगानिस्तान से लिंक होने की आशंका

पुलिस ने कहा कि आरोपी नौवीं तक ही पढ़ा है. लेकीन उसके पास फर्जी मास्टर्स की डिग्री है. उसकी शादी अमृता देवी नाम की महिला से हुई है. उसका एक बेटा है जो बारहवीं कक्षा में पढ़ रहा है. उसका परिवार आंध्र प्रदेश के गुंटूर जिले में रहता है. साल 2014 में शख्स हैदराबाद आ गया और सैनिकपुरी, जवाहर नगर में बस गया. उसने अपने परिवार को बताया कि उसे भारतीय सेना में मेजर की नौकरी मिली है और उन्होंने उस पर विश्वास कर लिया. पुलिस के अनुसार आरोपी ने अवैध रूप से श्रीनिवास चौहान के नाम पर आधार कार्ड बनवाया, जिसकी जिस पर उसकी असली जन्मतिथि 12-08-1979 की जगह 27-08-1986 थी. यह भी पढ़ें: आईपीएस ऑफिसर बनकर इस शख्स ने महिला को दिया नौकरी का झांसा, पहले भी बन चुका है सब इंस्पेक्टर

देखें ट्वीट:

शख्स मैरेज कंसल्टेंसीज और दोस्तों शादी की जानकारियां एकत्र करता था. अपने फर्जी आर्मी आईडी कार्ड, फोटो और नकली पिस्तौल दिखाकर परिवारों को फंसाता था. वह खुद को राष्ट्रीय रक्षा अकादमी, पुणे (National Defence Academy, Pune) से स्नातक बताता था. उसे भारतीय सेना के हैदराबाद रेंज में एक मेजर के रूप में तैनात किया गया है. "पुलिस ने कहा. ठगी से कमाए पैसे से आरोपी ने कथित तौर पर अन्य लक्जरी वस्तुओं के अलावा सैनिकपुरी और तीन कारों में एक डुप्लेक्स खरीदा था. शनिवार को विश्वसनीय जानकारी के बाद उत्तरी क्षेत्र टास्क फोर्स ने आरोपी को तब पकड़ लिया, जब वह अपनी कार में कहीं जा रहा था.