जरुरी जानकारी | उ.प्र. के बजट में पूर्वांचल, बुंदेलखंड की सड़क परियोजनाओं के लिये विशेष प्रावधान

लखनऊ, 22 फरवरी उत्‍तर प्रदेश सरकार के बजट में उसके पिछड़े इलाकों पूर्वांचल और बुंदेलखंड के लिये वित्‍तीय वर्ष 2021-2022 में विशेष प्रावधान किया गया है। विशेष रूप से पूर्वांचल और बुंदेलखंड में एक्‍सप्रेस-वे निर्माण के लिए धनराशि की व्यवस्था की गई है। राज्य में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव की दृष्टि से इसे महत्‍वपूर्ण माना जा रहा है।

बजट में पूर्वांचल की विशेष योजनाओं के लिए 300 करोड़ रुपये प्रस्‍तावित है जबकि बुंदेलखंड क्षेत्र की विशेष योजनाओं के लिए 210 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है।

राज्य के वित्‍त मंत्री द्वारा पेश बजट के मुताबिक पूर्वांचल और बुंदेलखंड की विकास योजनाओं पर सरकार ने अलग से भी धनराशि प्रस्‍तावित की है।

औद्योगिक विकास एवं अवस्‍थापना विभाग के मद से पूर्वांचल एक्‍सप्रेस-वे परियोजना (लखनऊ-गाजीपुर) के लिए 1107 करोड़ रुपये का बजट प्रस्‍तावित है। पूर्वांचल की ही गोरखपुर लिंक एक्‍सप्रेस-वे परियोजना के लिए 860 करोड़ रुपये की बजट व्‍यवस्‍था प्रस्‍तावित है। गोरखपुर मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ का गृह जिला है और वह वहां की प्रसिद्ध गोरक्षपीठ के महंत भी हैं। इस लिंक एक्‍सप्रेस-वे के बनने से पर्यटन की दृष्टि से भी पूर्वांचल का विकास होगा।

बुंदेलखंड के पांच जिलों को जोड़ने वाली बुंदेलखंड एक्‍सप्रेस-वे परियोजना के लिए 1492 करोड़ रुपये की बजट व्‍यवस्‍था प्रस्‍तावित है। इसके अलावा गंगा एक्‍सप्रेस-वे (मेरठ-प्रयागराज) की परियोजना में भूमि अधिग्रहण के लिए 7200 करोड़ रुपये तथा निर्माण कार्य के लिए 498 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है।

उल्‍लेखनीय है कि पिछली समाजवादी पार्टी की सरकार में लखनऊ-आगरा एक्‍सप्रेस-वे का निर्माण हुआ था और इस दफा भारतीय जनता पार्टी की सरकार चुनाव से पहले पूर्वांचल एक्‍सप्रेस-वे का निर्माण पूरा करने का दावा कर रही है।

आनन्‍द सलीम जफर

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)