देश की खबरें | ‘सेक्स स्कैंडल’ : लेखकों, शिक्षाविदों के समूह ने सिद्धरमैया को पत्र लिखकर कार्रवाई की मांग की

बेंगलुरु, 15 मई कर्नाटक के साहित्यकारों और शिक्षाविदों के एक समूह ने मुख्यमंत्री सिद्धरमैया को पत्र लिखकर हासन से जनता दल (सेक्युलर) के सांसद प्रज्वल रेवन्ना की तत्काल गिरफ्तारी की मांग की है।

पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवेगौड़ा के पोते प्रज्वल रेवन्ना पर कई महिलाओं के यौन शोषण का आरोप है। प्रज्वल 27 अप्रैल को विदेश चले गए।

राज्य सरकार ने यौन शोषण के कई मामलों और प्रज्वल से संबंधित मामलों की जांच के लिए अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक बी के सिंह की अध्यक्षता में एक विशेष जांच टीम (एसआईटी) का गठन किया है। इंटरपोल ने प्रज्वल के खिलाफ ‘ब्लू कॉर्नर’ नोटिस जारी किया है।

प्रज्वल विधायक और पूर्व मंत्री एच डी रेवन्ना के बेटे हैं। रेवन्ना भी छेड़छाड़ और अपहरण के एक मामले में आरोपी हैं।

प्रज्वल द्वारा महिलाओं के कथित यौन शोषण की निंदा करते हुए साहित्यकारों, शिक्षाविदों, नाटककारों, गायकों और सामाजिक कार्यकर्ताओं सहित 107 बुद्धिजीवियों ने सिद्धरमैया को पत्र लिखकर उनकी तत्काल गिरफ्तारी की मांग की है।

उन्होंने कहा कि यह एक बड़ा अपराध है कि ‘‘कई वर्षों से हो रहे अपराध को छुपाने’’ के लिए यौन शोषण की पीड़िताओं को कथित तौर पर धमकी दी गई और उनका अपहरण कर लिया गया। समूह ने पीड़िताओं के जीवन को खतरे और इस घोटाले के उजागर होने के बाद उनके परिवारों को होने वाले आघात पर प्रकाश डाला।

समूह ने कहा कि पीड़िताओं को आगे आकर शिकायत दर्ज कराने के लिए एक भयमुक्त माहौल बनाया जाना चाहिए। उन्होंने राजनीतिक दलों के आरोप-प्रत्यारोप पर रोक और एसआईटी जांच को समय-सीमा के भीतर पूरा करने की भी मांग की।

पत्र पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए राज्य के गृह मंत्री जी परमेश्वर ने कहा कि सरकार इसे गंभीरता से लेगी। उन्होंने कहा, ‘‘हम उनके पत्र को गंभीरता से लेंगे क्योंकि उन लोगों को समाज की चिंता है। वे अपने आस-पास के मुद्दों पर ध्यान देते हैं।’’

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)