देश की खबरें | कोविड-19 के मरीजों को 50 प्रतिशत बिस्तर आवंटित नहीं करने पर बेंगलुरु में 36 अस्पतालों को नोटिस
एनडीआरएफ/प्रतीकात्मक तस्वीर (Photo Credits: ANI)

बेंगलुरु, 17 सितंबर कर्नाटक की राजधानी में बृहत बेंगलुरु महानगर पालिके (बीबीएमपी) ने कोविड-19 के मरीजों के इलाज के लिये 50 प्रतिशत बिस्तर आवंटित करने के राज्य सरकार के आदेश का उल्लंघन करने पर 36 अस्पतालों को कारण बताओ नोटिस जारी किया है।

नगर निकाय ने चेतावनी दी है कि इसके अनुपालन में किसी भी तरह की नाकामी को गंभीरता से लिया जाएगा और कर्नाटक महामारी रोग अध्यादेश,2020, कर्नाटक निजी चिकित्सा प्रतिष्ठान अधिनियम, 2017, और आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 के संबद्ध प्रावधानों के तहत कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़े | RJD MLA Arun Yadav on SSR Case: आरजेडी विधायक अरुण यादव का सुशांत सिंह राजपूत को लेकर विवादित बयान, क्षत्रिय होने पर उठाया सवाल (Watch Video).

चिकित्सा शिक्षा मंत्री के. सुधाकर ने ट्वीट किया, ‘‘निजी अस्पतालों के लिये यह अनिवार्य है कि वे संक्रमित मरीजों के इलाज के लिये 50 प्रतिशत बिस्तर आवंटित करें। बीबीएमपी द्वारा बेंगलुरु में 36 निजी निजी अस्पतालों को नोटिस जारी किया गया है, जिन्होंने संक्रमितों का इलाज करने से मना कर सरकार के नियमों का उल्लंघन किया है। यह तय है कि कानून का उल्लंघन करने वाले अस्पतालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।’’

बुधवार को एक निजी अस्पताल को जारी किये गये इस तरह के एक अंतिम नोटिस में बीबीएमपी आयुक्त एन मंजूनाथ प्रसाद ने कहा था कि यह पाया गया है कि अस्पताल ने 50 प्रतिशत बिस्तर उपलब्ध करने के सरकार के निदेश का पालन नहीं किया।

यह भी पढ़े | Sanjay Raut Attack On Modi Govt: संजय राउत का केंद्र पर हमला, बोले- दिल्ली पर महाराष्ट्र का 25000 करोड़ का बकाया है, देंगे नहीं तो कैसे हम कोरोना से लड़ेंगे.

अस्पताल को जारी नोटिस में यह कहा गया है कि बीबीएमपी के ऑनलाइन पोर्टल पर बिस्तर सुरक्षित करने के बावजूद भी कोविड-19 के मरीजों को यह कह कर अस्पताल ने लौटा दिया कि बिस्तर उपलब्ध नहीं है। इससे यह स्पष्ट होता है कि जो बिस्तर सरकार के लिये सुरक्षित रखे जाने थे, उसे निजी मरीजों को आवंटित किया जा रहा।

नोटिस में 48 घंटे के अंदर जवाब देने को कहा गया है। साथ ही यह भी कहा गया है कि यदि अस्पताल निर्देशों का पालन करने में नाकाम रहता है तो संबद्ध कानून के तहत कार्रवाई की जाएगी।

अस्पतालों को आधिकारिक पोर्टल अद्यतन करने का भी निर्देश दिया गया है।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)