खेल की खबरें | कोविड-19 के बाद पहले विश्व कप में चमक बिखेरना चाहेंगे भारतीय निशानेबाज

काहिरा, 23 फरवरी कोविड-19 महामारी के कारण लगभग एक साल बाद पहला अंतरराष्ट्रीय निशानेबाजी खेल महासंघ (आईएसएसएफ) शॉटगन विश्व कप बुधवार से यहां शुरू होगा जिसमें भारत की 13 सदस्यीय टीम अपनी चमक बिखेरने की पूरी कोशिश करेगी।

यह आठ दिवसीय प्रतियोगिता साल का पहला शॉटगन विश्व कप है जिसके पहले दिन पुरुष और महिलाओं की स्कीट स्पर्धाएं होंगी। प्रतियोगिता में कुल 10 स्पर्धाएं शामिल हैं।

प्रतियोगिता में 33 देशों के 191 खिलाड़ी भाग ले रहे हैं तथा पुरुष और महिला स्पर्धाएं आईएसएसएफ के पिछले साल घोषित किये गये नये प्रारूप के अनुसार होंगी।

काहिरा विश्व कप इसलिए भी महत्वपूर्ण बन गया है क्योंकि यह विश्व रैंकिंग अंकों के आधार पर आगामी तोक्यो ओलंपिक के लिये क्वालीफाई करने का निशानेबाजों के पास आखिरी मौका होगा।

उदाहरण के लिये पुरुष ट्रैप में विश्व के नंबर एक खिलाड़ी इटली के मॉरो डि फिलिपिस ने तोक्यो के लिये क्वालीफाई नहीं किया है और वह अच्छा प्रदर्शन करके अपने रैकिंग अंकों को बनाये रखने की कोशिश करेंगे।

तोक्यो ओलंपिक का कोटा हासिल कर चुके पुरुष स्कीट निशानेबाज अंगद बाजवा ने कहा, ‘‘यह एक साल से भी अधिक समय बाद पहली प्रतियोगिता है और ओलंपिक से पहले मैच अभ्यास की तरह है। लय हासिल करने के लिये यह बेहद जरूरी था। ’’

भारतीय पुरुष स्कीट टीम में अंगद के अलावा मैराज अहमद खान है। मैराज भी तोक्यो का कोटा हासिल कर चुके हैं। टीम के तीसरे सदस्य गुरजोत खांगुरा हैं।

महिला स्कीट टीम में गनीमत शेखों, परिनाज धालिवाल और कार्तिकी सिंह शेखावत शामिल हैं।

पहला फाइनल गुरुवार को महिला स्कीट का होगा जिसके बाद पुरुष वर्ग का फाइनल होगा। आईएसएसएफ ने घोषणा की है कि सभी 10 फाइनल्स का वह अपने सोशल मीडिया स्ट्रीम्स पर सीधा प्रसारण करेगा।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)