देश की खबरें | किसान आंदोलन के शुक्रवार को एक साल पूरा होने पर किसान दिल्ली की सीमाओं की तरफ रवाना

चंडीगढ़, 25 नवंबर दिल्ली की सीमाओं पर केंद्र के नये कृषि कानूनों के विरोध में जारी किसान आंदोलन के शुक्रवार को एक साल पूरे होने पर हरियाणा और पंजाब के और अधिक किसान सिंघू और टिकरी बॉर्डर की ओर रवाना हुए हैं।

अमृतसर, जालंधर, फिरोजपुर, पटियाला, लुधियाना, संगरूर, अंबाला, हिसार, सिरसा, रोहतक, कुरुक्षेत्र, भिवानी समेत दोनों राज्यों के हजारों किसान दिल्ली की सीमाओं पर पहुंच रहे हैं।

भारतीय किसान यूनियन (राजेवाल) के नेता परगट सिंह ने बृहस्पतिवार को टिकरी बॉर्डर पर संवाददाताओं से कहा कि हजारों किसान पहुंच चुके हैं और कई किसान पहुंच रहे हैं।

जब उनसे भविष्य की योजना के बारे में पूछा गया तो सिंह ने कहा, ''संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) जो फैसला करेगा, उसके अनुसार हम आगे बढ़ेंगे।''

कृषि कानूनों को निरस्त करने वाले विधेयक को केंद्रीय मंत्रिमंडल की मंजूरी को महज ''औपचारिकता'' करार देते हुए किसान नेताओं ने कहा कि अब वे चाहते हैं कि सरकार उनकी अन्य लंबित मांगों का समाधान करे, जिसमें सबसे अहम न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) के लिए कानूनी गारंटी है।

हालांकि, उन्होंने इस कदम का स्वागत किया और कहा कि प्रदर्शनकारी किसानों की यह पहली जीत है और वे अपना आंदोलन जारी रखेंगे।

संयुक्त किसान मोर्चा ने बृहस्पतिवार को कहा कि पिछले साल 26 नवंबर को शुरू हुआ किसान आंदोलन शुक्रवार को अपने ऐतिहासिक संघर्ष का एक साल पूरा करेगा।

एसकेएम ने एक बयान में कहा, '' आंदोलन के एक साल पूरा होने पर संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान के बाद हजारों किसान दिल्ली के विभिन्न मोर्चों पर पहुंचना शुरू हो गए हैं।''

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)