देश की खबरें | अपने नेताओं, पत्रकारों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने को लेकर कांग्रेस ने उप्र सरकार की आलोचना की

नयी दिल्ली, 22 फरवरी उन्नाव में इस महीने दो किशोरी लड़कियों की मौत पर ट्वीट करने के लिए कांग्रेस नेताओं और कुछ पत्रकारों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने को लेकर पार्टी ने उत्तर प्रदेश सरकार की निंदा की और आरोप लगाया कि सत्तारूढ़ भाजपा लोकतंत्र का ‘‘गला घोंट’’ रही है।

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता और महासचिव रणदीप सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश सरकार अपराधियों को पकड़ने के बजाए मीडिया और नेताओं को निशाना बनाती है और उन्होंने ‘‘राजनीति से प्रेरित’’ प्राथमिकियों को तुरंत वापस लेने की मांग की।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस नेता उदित राज, वेब पोर्टल ‘मोजो स्टोरी’ और अन्य के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करना ‘‘सत्ता के मद में चूर भाजपा सरकार द्वारा विरोधियों का उत्पीड़न करने एवं असहमति के स्वर को कुचलने का एक और मामला है।’’

उन्होंने एक बयान में कहा, ‘‘पूर्व सांसद और कांग्रेस प्रवक्ता उदित राज, एक मीडिया पोर्टल और कुछ अन्य लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज किया जाना भाजपा और इसके नेताओं द्वारा लोकतंत्र का गला घोंटने का स्पष्ट उदाहरण है।’’

घटना तीन लड़कियों से जुड़ी हुई है जो 14, 15 और 16 वर्ष की थीं। वे लखनऊ से 36 किलोमीटर दूर असोहा के बाबूहारा गांव में अपने घरों से बुधवार की शाम चारा लेने निकली थीं लेकिन घर नहीं लौटीं। कुछ समय बाद उनके परिवार के लोगों ने उन्हें एक खेत में मृत पाया।

कांग्रेस नेता ने आरोप लगाए कि उत्तर प्रदेश में कानून-व्यवस्था ‘‘पूरी तरह खत्म’’ हो गई है क्योंकि राज्य सरकार लोगों की सुरक्षा करने के कर्तव्य में ‘‘विफल’’ रही है।

पुलिस ने इससे पहले बताया था कि उन्नाव घटना के सिलसिले में फर्जी सूचना फैलाने के आरोप में आठ ट्विटर हैंडल के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है।

ट्विटर हैंडल में समाचार पोर्टल ‘मोजो स्टोरी’ भी शामिल है, जो वरिष्ठ पत्रकार बरखा दत्त की है, जिन्होंने प्राथमिकी को ‘‘उत्पीड़न’’ करार दिया है।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)