देश की खबरें | आयुर्वेद विशेषज्ञ कृष्णकुमार का निधन, मोदी ने शोक व्यक्त किया
एनडीआरएफ/प्रतीकात्मक तस्वीर (Photo Credits: ANI)

कोयंबटूर,17 सितंबर आर्य वैद्य फार्मेसी के प्रबंध निदेशक तथा शहर में स्थित ‘अविनाशीलिंगम इंस्टीट्यूट फॉर होम साइंस एडं हायर एजुकेशन फॉर वीमन’ के कुलाधिपति पी आर कृष्ण कुमार का बुधवार रात निधन हो गया। वह 69वर्ष के थे।

उनसे जुड़े लोगों ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी।

यह भी पढ़े | कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने राष्ट्रीय बेरोजगारी दिवस पर दिया बयान, कहा- संविदा कानून रद्द हो युवाओं ने महाहुंकार भरी: 17 सितंबर 2020 की बड़ी खबरें और मुख्य समाचार LIVE.

पद्मश्री से सम्मानित कृष्णकुमार का यहां एक निजी अस्पताल में कोरोना वायरस संक्रमण का इलाज चल रहा था और उन्होंने बुधवार रात अंतिम सांस ली।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कृष्णकुमार के निधन पर शोक व्यक्त किया।

यह भी पढ़े | उत्तर प्रदेश: कोरोना महामारी रोकने में ‘पब्लिक एड्रेस सिस्टम’ से फैलाई जाएगी जागरूकता.

मोदी ने कृष्णकुमार को निधन पर गहरा शोक व्यक्त करते हुए उन्हें ‘‘ बेहद विनम्र और ज्ञानी व्यक्ति’’ बताया।

मोदी ने ट्वीट किया,‘‘ पी आर कृष्णकुमार के सतत, उद्यमी और मिशन मोड के प्रयासों ने आयुर्वेद को दुनिया में प्रसिद्धि दिलाने में योगदान दिया है। वह बेहद विनम्र और ज्ञानी व्यक्ति थे। उनके निधन से शोकाकुल हूं। उनके परिवार के प्रति संवेदना। ओम शांति।’’

मोदी ने कृष्ण कुमार के साथ एक तस्वीर भी साझा की।

कृष्णकुमार ने नैदानिक, साहित्यिक, क्षेत्र एवं दवा शोध के लिए तथा आयुर्वेदिक विद्वानों को प्रशिक्षित करने के लिए एवीपी रिसर्च फाउंडेशन (एवीपीआरएफ) नाम से एक संस्थान की स्थापना की।

इस संस्थान ने आयुर्वेद के क्षेत्र में अभ्यास-आधारित साक्ष्य को बढ़ावा देने के लिए 2003 में आरयूडीआरए नैदानिक दस्तावेजीकरण कार्यक्रम शुरू किया था।

कृष्णकुमार को आयुर्वेद के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए 2009 में पद्मश्री से सम्मानित किया गया था। वह आर्य वैद्य फार्मेसी के संस्थापक पी वी राम वारियर के पुत्र हैं। उनका जन्म केरल के शोरानूर में हुआ था।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)