देश की खबरें | उत्तर प्रदेश में आने वाले वर्षों में 20 से ज्यादा हवाई अड्डे होंगे : प्रदेश के उड्डयन मंत्री

नोएडा (उत्तर प्रदेश), 25 नवंबर उत्तर प्रदेश के नागर विमानन मंत्री नंदगोपाल गुप्ता ने बृहस्पतिवार को कहा कि राज्य में आने वाले वर्षों में पांच अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों सहित 20 से ज्यादा हवाई अड्डे होंगे।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज ही गौतमबुद्ध नगर जिले के जेवर में नोएडा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे की आधारशिला रखी है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और केन्द्रीय नागर विमानन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया की उपस्थिति में मेगा ग्रीनफिल्ड हवाई अड्डे की आधारशिला रखी।

गौतमबुद्ध नगर जिले के जेवर में बन रहा यह हवाई अड्डा निर्माण कार्य पूरा होने पर एशिया का सबसे बड़ा हवाई अड्डा होगा।

उत्तर प्रदेश के 24 करोड़ लोगों की ओर से इस हवाई अड्डे के लिए गुप्ता ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद दिया।

राज्य में विमानन क्षेत्र के बुनियादी ढांचे के संबंध में मंत्री ने कहा, ‘‘उत्तर प्रदेश में आने वाले वर्षों में पांच अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों सहित कुल 21 हवाई अड्डे होंगे।’’

परियोजना में तेजी लाने के लिए केन्द्र की तारीफ करते हुए गुप्ता ने कहा, ‘‘अकसर ऐसा हुआ है जब जेवर हवाई अड्डे से जुड़े फाइलें महज एक दिन में पास हो गई हैं। पिछली सरकारों में यह हवाई अड्डा महज एक विज्ञापन परियोजना थी, जो सिर्फ चुनाव के दौरान जिन्न की तरह चिराग से बाहर निकलती थी।’’

अगले साल होने वाले उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा नेता ने विपक्षी दलों समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) पर भाई-भतीजावाद, वंशवाद की राजनीति करने, भ्रष्टाचार और राज्य में उनकी सरकार के दौरान माफिया राज होने का आरोप लगाया।

उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन अब योगी का बुल्डोजर पिछली सरकारों के भ्रष्ट लोगों के महलों को गिरा रहा है... सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास सिर्फ नारा नहीं, बल्कि भाजपा का लक्ष्य है।’’

जेवर से विधायक धीरेन्द्र सिंह ने कहा कि पहली बार कोई प्रधानमंत्री जेवर आया है, जिस क्षेत्र की गिनती हाल तक पिछड़े विधानसभा क्षेत्र के तौर पर होती थी। सिंह ने इस परियोजना में सहयोग के लिए जेवर की जनता को धन्यवाद भी दिया।

स्थानीय सांसद महेश शर्मा ने कहा कि यह हवाई अड्डा पश्चिमी उत्तर प्रदेश का भाग्य बदल देगा।

शर्मा ने कहा कि मेरा सौभाग्य है कि प्रधानमंत्री मोदी के मातहत उस वक्त मैं केन्द्रीय नागर विमानन राज्य मंत्री रहा। यह परियोजना लगभग ठंड बस्ते में जाने वाली थी, लेकिन यह प्रधानमंत्री मोदी की दूरदर्शिता थी कि एनसीआर को नये हवाई अड्डे की जरूरत है क्योंकि दिल्ली हवाई अड्डा 2023 तक यात्रियों का बोझ नहीं झेल सकेगा।।

केन्द्रीय मंत्री ने बताया, ‘‘तय होना था कि नया हवाई अड्डा कहां बने... राजस्थान के भिवाड़ी में या हरियाणा में कहीं या फिर यहां जेवर में। यह लड़ाई लबे समय तक चली और अंतत: अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के लिए यह लड़ाई आपने जीती।’’

शर्मा ने कहा कि विकास के मामले में जेवर पिछड़ रहा था, लेकिन आने वाले दिनों में उसकी तस्वीर बदलेगी। उन्होंने क्षेत्र के लोगों और किसानों को भी धन्यवाद दिया।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)