देश की खबरें | स्टालिन ने तमिलनाडु के विकास को अद्वितीय बताया, केंद्र से अधिक धन देने का आग्रह किया

चेन्नई, 26 मई तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम. के. स्टालिन ने राज्य के विकास को अद्वितीय करार देते हुए बृहस्पतिवार को कहा कि यह विकास महज अर्थव्यवस्था से संबंधित नहीं, बल्कि सामाजिक न्याय, महिला विकास और समानता के 'द्रविड़ मॉडल के समावेशी विकास' से जुड़ा है।

उन्होंने कहा कि राज्य कई पहलुओं में देश में विकसित (राज्य) के तौर पर था और राष्ट्र के समग्र विकास में बहुत योगदान दिया। साथ ही उन्होंने प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी से योजनाओं और निधि आवंटन में केंद्र के योगदान को बढ़ाने व देश की अर्थव्यवस्था में योगदान के लिए तमिलनाडु के साथ न्याय का आग्रह किया।

मुख्यमंत्री ने एक कार्यक्रम में उपस्थित प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से राज्य की योजनाओं के लिए अधिक राशि आवंटित करने तथा केंद्र का सहयोग बढ़ाने का आग्रह किया।

मुख्यमंत्री ने यहां तमिलनाडु के राज्यपाल आर एन रवि और केंद्रीय मंत्री एल मुरुगन की उपस्थिति में हजारों करोड़ रुपये की विभिन्न परियोजनाओं को राष्ट्र को समर्पित करने और प्रधानमंत्री द्वारा कई परियोजनाओं की आधारशिला रखे जाने के अवसर पर आयोजित समारोह में कहा कि तमिलनाडु ने शिक्षा, अर्थव्यवस्था, स्वास्थ्य, कृषि, निर्यात और अत्यधिक कुशल मानव संसाधन के क्षेत्र में भारत के समग्र विकास में महती योगदान किया है।

स्टालिन ने कहा, ‘‘तमिलनाडु ने भारत के विकास में महती भूमिका निभाई है। तमिलनाडु का विकास अन्य राज्यों की तुलना में अद्वितीय है। यह विकास केवल अर्थव्यवस्था से संबंधित नहीं है, बल्कि यह सामाजिक विकास, महिला विकास और समानता के समावेशी विकास से जुड़ा है।’’

उन्होंने दावा किया कि राज्य न केवल आर्थिक और अन्य संबंधित कारकों में, बल्कि सामाजिक न्याय, समानता और महिला सशक्तीकरण में भी अग्रणी है। मुख्यमंत्री ने कहा, ''संक्षेप में, तमिलनाडु समावेशी विकास वाला राज्य है। इसे ही हम 'द्रविड़ मॉडल' कहते हैं।''

उन्होंने कहा, ‘‘तमिलनाडु सरकार ने बड़े पैमाने पर राजकोषीय असंतुलन को ठीक किया है और राज्य के वित्त का पुनर्गठन भी किया है। इसका योगदान भारत के विकास और केंद्र सरकार के वित्तीय संसाधनों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।’’ उन्होंने दावा किया कि भारत के सकल घरेलू उत्पाद में इसकी हिस्सेदारी 9.22 प्रतिशत है और केंद्र सरकार की कुल कर आय में तमिलनाडु का हिस्सा छह प्रतिशत है।

उन्होंने कहा कि कपड़ा उद्योग में 19.4 प्रतिशत और कारों के निर्यात में 32.5 प्रतिशत की हिस्सेदारी के साथ देश के कुल निर्यात में तमिलनाडु की हिस्सेदारी 8.4 प्रतिशत है, जबकि चमड़ा उत्पादों के निर्यात में इसका योगदान 33 प्रतिशत है।

राज्य को कई परियोजनाएं देने के लिए प्रधानमंत्री को धन्यवाद देते हुए उन्होंने अपने पिता एवं पूर्व मुख्यमंत्री एम. करुणानिधि को उद्धृत करते हुए कहा, ‘‘हम दोस्ती का हाथ भी बढ़ाएंगे और साथ ही अपने हक के लिए अपनी आवाज भी उठाएंगे।’’

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)