जरुरी जानकारी | रुपया 78.04 प्रति डॉलर पर स्थिर बंद हुआ

मुंबई, 14 जून विदेशों में डॉलर के कमजोर रहने के बीच विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में मंगलवार को रुपये का आरंभिक लाभ लुप्त हो गया और यह अमेरिकी मुद्रा के मुकाबले अपने सर्वकालिक निचले स्तर 78.04 प्रति डॉलर पर अपरिवर्तित बंद हुआ।

बाजार सूत्रों ने कहा कि घरेलू कारोबार का नीरस माहौल, कच्चे तेल की कीमतों में तेजी तथा विदेशी पूंजी की बाजार से सतत निकासी से भी रुपये की धारणा प्रभावित हुई।

अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में डॉलर के मुकाबले रुपया 78.02 पर खुला। दिन के कारोबार में यह 77.90 के उच्चस्तर और 78.07 के निचले स्तर तक आया। कारोबार के अंत में रुपया अपने पिछले बंद भाव 78.04 प्रति डॉलर पर अपरिवर्तित बंद हुआ।

बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 153.13 अंक की गिरावट के साथ 52,693.57 अंक पर बंद हुआ।

इस बीच, छह प्रमुख मुद्राओं की तुलना में अमेरिकी डॉलर की स्थिति को दर्शाने वाला डॉलर सूचकांक 0.05 प्रतिशत घटकर 105.02 रह गया।

वैश्विक तेल मानक ब्रेंट क्रूड वायदा का दाम 0.72 प्रतिशत बढ़कर 123.15 डॉलर प्रति बैरल हो गया।

रेलिगेयर ब्रोकिंग लिमिटेड की उपाध्यक्ष- जिंस एवं शोध सुगंधा सचदेवा ने कहा, ‘‘भारतीय रुपये का रुख वर्ष की शुरुआत से नीचे की ओर रहा है और इसमें वर्ष 2022 में अब तक लगभग पांच प्रतिशत की गिरावट आई है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों के साथ डॉलर के मुकाबले रुपये के मूल्य में गिरावट के पीछे का मुख्य कारण डॉलर में पर्याप्त तेजी आना है। डॉलर इस साल आज की जारीख तक करीब 10 प्रतिशत की तेजी के साथ दो दशक के उच्चस्तर पर पहुंच गया है।’’

रिलायंस सिक्योरिटीज के वरिष्ठ अनुसंधान विश्लेषक श्रीराम अय्यर ने कहा कि केंद्रीय बैंक के संभावित हस्तक्षेप से शुरू में रुपये में तेजी आई।

हालांकि, निवेशकों ने सतर्कता का रुख अख्तियार किये रखा और वे बुधवार को आने वाले अमेरिकी फेडरल रिजर्व की बैठक के नतीजों का इंतजार कर रहे हैं।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)