देश की खबरें | मराठवाड़ा मुक्तिसंग्राम दिन: कार्यकर्ताओं ने ठाकरे, सांसद की अनुपस्थिति का विरोध किया
एनडीआरएफ/प्रतीकात्मक तस्वीर (Photo Credits: ANI)

औरंगाबाद, 17 सितम्बर मराठवाड़ा समर्थक एक संगठन के सदस्यों ने बृहस्पतिवार को यहां ‘मराठवाड़ा मुक्तिसंग्राम दिन’ कार्यक्रम में औरंगाबाद से लोकसभा सांसद इम्तियाज जलील और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की अनुपस्थिति के खिलाफ प्रदर्शन किया।

प्रत्येक वर्ष मुख्यमंत्री औरंगाबाद में आयोजित होने वाले ‘मराठवाड़ा मुक्तिसंग्राम दिवस’ कार्यक्रम में शामिल होते हैं जो हैदराबाद के निजाम से इस क्षेत्र की 17 सितम्बर, 1948 को मुक्ति के जश्न के तौर पर हर साल मनाया जाता है।

यह भी पढ़े | BJP MP Ashok Gasti Dies of Coronavirus: बीजेपी के राज्यसभा सांसद अशोक गास्ती का निधन, COVID-19 से थे संक्रमित.

इस बार मुख्यमंत्री एवं शिवसेना अध्यक्ष ठाकरे यहां मुक्तिसंग्राम स्मारक में आयोजित ध्वजारोहण कार्यक्रम में वीडियो कान्फ्रेंस के जरिये शामिल हुए।

मराठवाड़ा विकास मंच के कुछ सदस्यों ने ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के नेता एवं औरंगाबाद के सांसद जलील और ठाकरे के आयोजन में अनुपस्थिति का विरोध किया।

यह भी पढ़े | RJD MLA Arun Yadav on SSR Case: आरजेडी विधायक अरुण यादव का सुशांत सिंह राजपूत को लेकर विवादित बयान, क्षत्रिय होने पर उठाया सवाल (Watch Video).

जलील चल रहे संसद सत्र में हिस्सा लेने के लिए नयी दिल्ली में हैं। उन्होंने एक ट्वीट में कहा, ‘‘मुख्यमंत्री ने ध्वजारोहण समारोह के लिए उपस्थित होने से स्पष्ट रूप से इनकार कर दिया। जो लोग मुझसे सवाल करते हैं, वे अब मुख्यमंत्री से उनकी अनुपस्थिति पर सवाल नहीं करते हैं। मैं कहता हूं यह दोहरा मापदंड है।’’

उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘‘मराठवाड़ा मुक्तिसंग्राम में मेरी अनुपस्थिति राष्ट्र-विरोधी है, फिर मुख्यमंत्री और शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे की अनुपस्थिति देशभक्ति है? मीडिया, जो वफादारी का प्रमाणपत्र देता है, यहां चुप क्यों है?’’

शिवसेना एमएलसी एवं जिला पार्टी इकाई अध्यक्ष अंबादास दानवे ने पीटीआई- से कहा कि मुख्यमंत्री को जलील से देशभक्ति के प्रमाणपत्र की जरूरत नहीं है।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)