देश की खबरें | बिहार में इस साल की पहली छमाही में छह को सुनाया गया मृत्युदंड, 466 को उम्रकैद

पटना, पांच अगस्त बिहार में इस साल की पहली छमाही में अदालतों से छह लोगों को मौत की एवं 450 से अधिक को उम्रकैद की सजा सुनायी गयी। पुलिस मुख्यालय ने यह आंकड़ा जारी किया है।

पुलिस मुख्यालय की विज्ञप्ति के अनुसार जनवरी और जून के बीच त्वरित जांच से 1576 आपराधिक मामलों में दोषसिद्ध में मदद मिली तथा 2507 लोगों को सजा सुनायी गयी।

सबसे अधिक 953 दोषसिद्ध छोटे-मोटे अपराधों में हुई जिनमें दो साल या उससे कम अवधि की कैद की सजा सुनायी गयी।

इन आंकड़ो के अनुसार 853 अभियुक्तों को 10 साल या उससे कम की कैद की सजा सुनायी गयी जबकि 220 को 10 साल या उससे अधिक अवधि की सजा सुनायी गयी। उम्रकैद की सजा 466 मुजरिमों को सुनायी गयी।

जिन लोगों को गंभीर अपराधों में दोषी करार दिया गया , उनमें 442 पर हत्या का एवं 171 पर बलात्कार का आरोप था जबकि 243 ने पोक्सो कानून, 220 ने हथियार कानून एवं 111 को अनुसूचित जाति/जनजाति उत्पीड़न रोकथाम अधिनियम के तहत सुनवाई का सामना किया।

मधेपुरा में सबसे अधिक 124 लोग दोषी ठहराये गये जबकि पटना में 91 एवं बक्सर में 67 दोषी पाये गये।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)