जरुरी जानकारी | डॉ रेड्डीज को कोविड-19 के टीके के दूसरे-तीसरे चरण का मानव परीक्षण करने की मंजूरी मिली

हैदराबाद, 17 अक्टूबर डॉ रेड्डीज लेबोरेटरीज लिमिटेड को कोविड-19 के रूस में बने टीके स्पूतनिक वी का भारत में दूसरे व तीसरे चरण का मानव परीक्षण करने की मंजूरी मिल गयी है। कंपनी ने एक बयान में इसकी जानकारी दी।

कंपनी ने बताया कि उसे और रसियन डाइरेक्ट इवेस्टमेंट फंड (आरडीआईएफ) को भारतीय औषधि महा नियंत्रक (डीजीसीआई) से यह मंजूरी प्राप्त हुई है। कंपनी ने कहा कि यह एक नियंत्रित अध्ययन होगा, जिसे कई केंद्रों पर किया जायेगा।

यह भी पढ़े | Lost Job in Lockdown: लॉकडाउन में चली गई नौकरी तो भी कर सकते हैं 50 फीसदी सैलरी का दावा, जानें ABVKY के तहत कैसे पाएं इसका लाभ.

इससे पहले सितंबर 2020 में डॉ.रेड्डीज़ और आरडीआईएफ ने स्पुतनिक वी वैक्सीन के परीक्षण और भारत में इसके वितरण के लिये साझेदारी की थी। साझेदारी के तहत आरडीआईएफ भारत में विनियामक अनुमोदन पर डॉ.रेड्डीज को वैक्सीन की 10 करोड़ खुराक की आपूर्ति करेगा।

कंपनी के सह चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक जीवी प्रसाद ने कहा, "यह एक महत्वपूर्ण खबर है, जो हमें भारत में नैदानिक परीक्षण शुरू करने की अनुमति देता है। हम महामारी से निपटने के लिये एक सुरक्षित और प्रभावी टीका लाने को प्रतिबद्ध हैं।"

यह भी पढ़े | नए कॉलेज और यूनिवर्सिटी खोलना में दिल्ली यूनिवर्सिटी एक्ट है अड़चन: CM अरविंद केजरीवाल.

आरडीआईएफ के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) किरिल दमित्रिएव ने कहा, "हम भारतीय नियामको के साथ सहयोग कर प्रसन्न हैं। हम भारत में होने वाले परीक्षण के साथ ही रूस में तीसरे चरण के परीक्षण के डेटा को साझा करेंगे। इससे स्पूतनिक वी के क्लिनिकल विकास में मदद मिलेगी।’’

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)