देश की खबरें | मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने दिल्ली जाने के लिए वैकल्पिक मार्गों के मरम्मत कार्य की समीक्षा की

सोनीपत (हरियाणा), 14 अक्टूबर कृषि कानून के विरोध में दिल्ली हरियाणा की सीमा पर कुंडली बॉर्डर पर पिछले साल नवंबर से जारी किसान आंदोलन की पृष्ठभूमि में हरियाणा सरकार द्वारा राष्ट्रीय राजधानी पहुंचने के लिए वैकल्पिक मार्गों को सुधारने का काम युद्ध स्तर पर जारी है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने बृहस्पतिवार को वीडियो कांफ्रेंस के दौरान इसकी समीक्षा की।

बैठक के दौरान सोनीपत के उपायुक्त उपायुक्त ललित सिवाच ने मुख्यमंत्री को बताया कि चिन्हित सभी आठ वैकल्पिक मार्गों के मरम्मत काम युद्ध स्तर पर जारी है और जल्दी ही पूरा हो जाएगा।

उपायुक्त ने सिवाचन ने बताया कि सोनीपत में आठ मार्ग चिन्हित किये गये हैं, जो हैं... सेरसा खटकड़ से भैराबांकीपुर वाया मनोली (8.03 किलोमीटर), जीटी रोड (एनएच-44) से जांटीकलां अप टू जांटी खुर्द (5.50 किलोमीटर), जीटी रोड से नाथूपुर सबोली (4.60 किलोमीटर), जीटी रोड सेवली जाखोली पबसेरा मनोली अटेरना नांगल कलां प्याऊ मनियारी अप टू नरेला बॉर्डर (19.64 किलोमीटर), लामपुर बॉर्डर (नाहरा-नाहरी रोड 12.69 किलोमीटर), राई नाहरा बहादुरगढ़ रोड (एमडीआर-138)(बीसवामील जठेड़ी अप टू नाहरा) (11.75 किलोमीटर), सोनीपत राठधना अकबरपुर बारोटा अप टू सफियाबाद (दिल्ली बॉर्डर) (12.00 किलोमीटर) और राठधना से बहालगढ़ रोड (2.35 किलोमीटर)।

उन्होंने बताया कि इन आठों सड़कों को ठीक करने में 80 करोड़ रुपये की लागत आने की संभावना है।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)