देश की खबरें | मुख्यमंत्री ने दंतेश्वरी देवी को चढ़ाई 11 किलोमीटर लंबी चुनरी

दंतेवाड़ा, 24 मई छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मंगलवार को प्रदेश के नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा जिले के प्रसिद्ध दंतेश्वरी मंदिर में देवी को 11 किलोमीटर लंबी 'चुनरी' चढ़ाई। अधिकारियों ने इसकी जानकारी दी ।

दंतेवाड़ा जिले के अधिकारियों ने बताया कि चुनरी को डेनेक्स गारमेंट फैक्ट्री में महिलाओं ने तैयार की है। उन्होंने बताया कि लाल रंग की इस चुनरी को अब तक की सबसे लंबी चुनरी मानी जा रही है।

उन्होंने बताया कि दंतेवाड़ा जिला प्रशासन ने पिछले वर्ष जनवरी में दंतेवाड़ा नेक्स्ट के संक्षिप्त नाम 'डेनेक्स' की पहली रेडीमेड कपड़ा निर्माण की इकाई शुरू की थी, इस इकाई में स्थानीय महिलाएं 'डेनेक्स' ब्रांड के नाम से कपड़े बनाती हैं।

जिले में अब तक ऐसी पांच इकाइयां स्थापित की जा चुकी हैं।

अधिकारियों ने बताया कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल मंगलवार को अपने जनसंपर्क अभियान 'भेंट मुलाकत' के दौरान दंतेवाड़ा में थे और इस दौरान उन्होंने मां दंतेश्वरी के मंदिर में पूजा की और चुनरी चढ़ाई।

इससे पहले संवाददाताओं से बातचीत के दौरान बघेल ने कहा कि अब दंतेवाड़ा जिले के लोगों के जीवन में परिवर्तन महसूस हो रहा है और लोग शांति की और लौट रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा, ''बस्तर अब शांति की ओर लौट रहा है। पुलिस की पेट्रोलिंग भी बढ़ी है। एक समय में गोली धमाके की चर्चा आम थी लेकिन अब डेनेक्स और दूसरी चीज़ों के लिए जाना जा रहा है।''

उन्होंने कहा, ''नक्सल समस्या केवल पुलिस की समस्या नहीं है। यह समस्या सबके समन्वित प्रयास से खत्म होगी। अंदरूनी इलाकों तक शासन की योजनाएं पहुंच रही है, प्रशासन गांव गांव तक पहुंच रहा है। लोगों को यहां रोजगार मिल रहा है जिससे नक्सली भर्ती में कमी आई है। वहीं आदिवासियों के बीच शिक्षा के प्रति रुझान बढ़ रहा है।''

बघेल ने कहा, ''बस्तर प्राकृतिक सौंदर्य और अपनी जीवन शैली के लिए पूरे जगत में प्रसिद्ध है। पर्यटकों को फिर से यहां बुलाना है। बस्तर को विकसित करना है।’’

मुख्यमंत्री ने कहा, ''बस्तर प्राकृतिक सौंदर्य, भाई-चारे की जगह है। यह क्षेत्र दंतेश्वरी मंदिर, दशहरा, मुर्गा-लड़ाई के लिए प्रसिद्ध था। अब लोग ख़ून-ख़राबे से ऊब गए हैं और शांति की ओर लौट रहे हैं।''

अधिकारियों ने बताया कि डेनेक्स की तीन सौ महिलाओं ने केवल सात दिनों में 11 किलोमीटर लंबी चुनरी का निर्माण किया है। उन्होंने कहा कि इस कार्य से स्थानीय महिलाओं के कौशल को दुनिया भर में पहचान मिलेगी।

उन्होंने बताया कि चुनरी के निर्माण से दंतेवाड़ा की 'डेनेक्स' की महिलाओं का नाम विश्व रिकॉर्ड में दर्ज हो गया है। इससे पहले नर्मदा मैया को वर्ष 2017 में मंदसौर में आठ किलोमीटर किमी लंबी चुनरी ओढ़ाई गई थी।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)