देश की खबरें | मंदिर निर्माण को लेकर त्रिपुरा, आइजोल के बीच सीमा विवाद
एनडीआरएफ/प्रतीकात्मक तस्वीर (Photo Credits: ANI)

अगरतला/आइजोल, 17 अक्टूबर मिजोरम सरकार ने त्रिपुरा-मिजोरम सीमा पर जम्पुई हिल्स स्थित फुलडुंगसेई गांव में शिव मंदिर बनाने की एक सामाजिक संगठन की कथित कोशिशों के बाद वहां सीआरपीसी की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू कर दी है।

त्रिपुरा सरकार का दावा है कि यह गांव उत्तर त्रिपुरा जिले में आता है, जबकि मिजोरम सरकार का कहना है कि यह गांव उसके ममित जिले की सीमा में आता है।

यह भी पढ़े | Bihar Assembly Election 2020: बिहार चुनाव में उछला धारा-370 का मुद्दा, बीजेपी ने कहा- कांग्रेस और RJD साफ करे अपना रुख.

मिजोरम के ममित जिला दंडाधिकारी लाल रोजामा ने शुक्रवार को निषेधाज्ञा लागू कर दी और दावा किया सोंगरोमा नामक सामाजिक संगठन जिले की सीमा में स्थित थाईदाव तलांग में 19 और 20 अक्टूबर को मंदिर का निर्माण करना चाहता है।

मिजोरम सरकार ने कहा कि राज्य सरकार की अनुमति के बिना इसकी योजना बनाई गई है और इससे क्षेत्र में शांति भंग हो सकती है।

यह भी पढ़े | Andhra Pradesh Heavy Rains: आंध्र प्रदेश में भारी बारिश के बाद तबाही, सीएम जगन मोहन रेड्डी ने गृहमंत्री अमित शाह को पत्र लिख मांगी 2,250 करोड़ रुपये की आर्थिक मदद.

उत्तर त्रिपुरा जिला दंडाधिकारी नागेश कुमार और पुलिस अधीक्षक भानूपाड़ा चक्रवर्ती के नेतृत्व में एक दल ने शनिवार को गांव का दौरा किया।

त्रिपुरा सरकार के अधिकारियों ने यहां बताया कि फुलडुंगसेई गांव त्रिपुरा के प्रशासनिक नियंत्रण में आता है और उसने मिजोरम सरकार के समक्ष यह मामला उठाया है।

गांव को लेकर त्रिपुरा और मिजोरम के बीच यह विवाद अगस्त में उस समय शुरू हुआ था, जबकि कुछ ऐसे लोगों के बारे में पता चला था जिनके नाम दोनों राज्यों की मतदाता सूची में शामिल थे और वे दोनों राज्यों की जनकल्याण योजनाओं का लाभ उठा रहे थे।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)