देश की खबरें | बिहार : पुलिस अधीक्षक, पुलिस उपाधीक्षक सहित नौ लोगों पर नामजद मुकदमा

खगड़िया के पुलिस अधीक्षक चंदन कुमार कुशवाहा के मुताबिक, मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी की अदालत के छह मई के आदेश के बाद जिले के चित्रगुप्त नगर थाने में प्राथमिकी दर्ज की गयी।

अधिकारी ने बताया, ‘‘अदालत का आदेश मिलने पर अमलेंदु सिंह द्वारा की गयी शिकायत पर चार जुलाई को एक प्राथमिकी दर्ज की गई।’’

सिंह पूर्व में यहां मानसी थाना में तैनात थे,

शिकायतकर्ता के अनुसार, 26 जून, 2022 को तत्कालीन पुलिस अधीक्षक अमितेश कुमार और अन्य अधिकारियों ने उनकी पिटाई की और उनका फोन छीन लिया साथ ही उन्हें जान से मारने की भी धमकी दी।

कुमार अब सीवान में तैनात हैं।

शिकायतकर्ता ने दावा किया कि उनपर ‘‘चुप रहने’’ का दबाव बनाया गया और भागलपुर निगरानी थाने में ‘फर्जी भ्रष्टाचार मामला’ दर्ज कर उन्हें निलंबित भी करवा दिया गया।

शिकायतकर्ता ने मामले में कार्रवाई नहीं होने पर इस साल मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी की अदालत का दरवाजा खटखटाया।

अदालत ने माना कि प्रथम दृष्टया मामला जांच के लायक है और पुलिस को आवश्यक कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

तत्कालीन पुलिस अधीक्षक के अलावा, प्राथमिकी में नामित अन्य लोगों में पुलिस उपाधीक्षक सुमित कुमार (वर्तमान में नालंदा में तैनात) भी शामिल हैं। साथ ही जिन अधिकारियों के नाम प्राथमिकी में हैं, उनमें सदर थाना के तत्कालीन थानाध्यक्ष विनोद कुमार सिंह (अब औरंगाबाद में प्रतिनियुक्त पर) और खगड़िया में विभिन्न स्थानों पर तैनात निरीक्षक और उपनिरीक्षक रैंक के अधिकारी हैं।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)