सैन्य मदद का संदेश लेकर अमेरिकी विदेश मंत्री पहुंचे यूक्रेन
प्रतीकात्मक तस्वीर (Photo Credit: Image File)

अमेरिका से हथियारों की खेप यूक्रेन के रास्ते में है. यह संदेश ले कर अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकेन रूस के साथ जारी युद्ध के बीच चौथी बार यूक्रेन आए हैं.हाल ही में अमेरिकी संसद ने यूक्रेन के लिए कई हफ्तों की राजनीतिक खींचतान के बाद 61 अरब अमेरिकी डॉलर के सहायता पैकेज को मंजूरी दी थी. यूक्रेन के सैनिकों के लिए कई जरूरी सामान और हथियार इसमें शामिल है.

रूस ने पिछले कुछ हफ्तों से यूक्रेन में अपना अभियान तेज कर दिया है. कीव में यूक्रेनी राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की से मुलाकात में ब्लिंकेन ने कहा, "सहायता रास्ते में हैं और वह रूसी हमले के खिलाफ सचमुच फर्क लाएगी."

एयर डिफेंस की जरूरत

अमेरिका की तरफ से टैंक, एयर डिफेंस इंटरसेप्टर और लंबी दूरी की मिसाइलें पहले ही भेजी जा चुकी हैं. ब्लिंकेन के साथ यात्रा कर रहे एक अधिकारी ने बताया कि इनमें से कुछ पहले ही मोर्चे पर पहुंच चुके हैं.

पोलैंड से रात भर ट्रेन की यात्रा कर कीव पहुंचे ब्लिंकेन की फरवरी 2022 के बाद चौथी बार सोमवार को कीव पहुंचे. जेलेंस्की ने अमेरिका की मदद के लिए आभार जताया और कहा, "पैकेज पर फैसला हमारे लिए बेहद अहम था."

जेलेंस्की का कहना है कि यूक्रेन के लिए सबसे बड़ी कमी एयर डिफेंस की है. उनका कहना है कि खारकीव इलाके में दो पैट्रियट बैट्रियों की जरूरत है. जेलेंस्की के मुताबिक इस इलाके में रूसी सेना आगे बढ़ कर सीमा पर मौजूद गांवों पर प्रहार कर रही है.

सोमवार को अमेरिकी राष्ट्रपति के कार्यालय ने कहा कि यूक्रेन तक हथियारों को जल्दी से पहुंचाने के लिए वे "सबकुछ" कर रहे हैं. अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलीवान ने पत्रकारों से कहा कि हथियारों के एक नए पैकेज की जल्दी ही घोषणा होगी.

खारकीव पर निशाना

खारकीव शहर के बाहर एक चेक प्वाइंट पर एक अधिकारी ने बताया कि रूसी सेना यूक्रेन में "सीमा पर मौजूद गांवों के जरिए घुस रही है जिसकी रक्षा करना हमारे लिए बहुत जटिल है." खारकीव जिले के सैन्य प्रशासन के प्रमुख वोलोदिमीर उसोव ने कहा, "वे ऊंचाई पर हैं और हम पर फायरिंग कर रहे हैं"

बीते हफ्ते में शुक्रवार को खारकीव इलाके में शुरू हुए रूस के आकस्मिक हमले की वजह से हजारों लोगों को उनके घरों से निकाल कर सुरक्षित ठिकानों पर पहुंचाया गया है. यूक्रेन को वहां आनन फानन में सैनिकों को भेजना पड़ा है. यूक्रेनी सेना ने माना है कि रूसी सेना फुर्ती से सफलता हासिल कर रही है लेकेनि जेलेंस्की ने जोर दे कर कहा कि उन्होंने सैनिको को खारकीव में भेजा है और "वहां हमारा जवाबी हमला जारी है."

यूक्रेन की सुरक्षा परिषद के प्रमुख ओलेक्सांद्र लित्विनेंको का कहना है कि नए हमलों के लिए खारकीव इलाके में रूस ने सैनिकों की तैनाती भारी संख्या में बढ़ा दी है. लित्विनेंको ने कहा, "बहुत सारे रूसी हैं, बहुत ज्यादा. करीब 50,000 तो सीमा पर हैं. अभी 30,000 से ज्यादा और सैनिक आ रहे हैं."

एक अमेरिकी अधिकारी ने समाचार एजेंसी एपी को बताया कि हाल में कुछ जगहों पर पीछे हटने के बावजूद यूक्रेन अब भी बड़ी जीत के दावे कर सकता है. इस अधिकारी के मुताबिक युद्ध के शुरूआती महीनों में रूसी सेना ने जिन इलाकों पर कब्जा किया था उनमें लगभग आधी जमीन यूक्रेन दोबारा अपने नियंत्रण में ले चुका है.

इस अधिकारी ने माना कि यूक्रेन के सामने "कठिन लड़ाई" है और उस पर "बहुत ज्यादा दबाव" है. हालांकि उनकी दलील है कि यूक्रेन के लोग अब ज्यादा आत्मविश्वास से भरे हैं क्योंकि अमेरिका और पश्चिमी देशों की सहायता आनी शुरू हो गई है.

एनआर/आरपी (एएफपी, एपी)