पहली बार अमेरिकी नौसेना प्रमुख की कमान महिला के हाथ
प्रतीकात्मक तस्वीर (Photo Credit: Image File)

अमेरिकी नौसेना में एडमिरल लिसा फ्रैंचेटी की ऐतिहासिक पदोन्नति का मतलब है कि वह देश की नौसेना की कमान संभालने के साथ-साथ ज्वाइंट चीफ ऑफ स्टाफ के रूप में सेवा करने वाली पहली महिला बन गई हैं.अमेरिकी सीनेट ने देश की नौसेना का नेतृत्व करने के लिए एडमिरल लिसा फ्रैंचेटी के नामांकन की पुष्टि करने के लिए मतदान किया, जिससे वह शीर्ष अमेरिकी नौसेना अधिकारी बनने के साथ-साथ ज्वाइंट चीफ्स ऑफ स्टाफ के सदस्य के रूप में सेवा देने वाली पहली महिला बन गई हैं.

उन्हें 'नौसेना संचालन प्रमुख' के पद के लिए मंजूरी दे दी गई. सीनेट के 95 सदस्यों ने पक्ष में और एक ने विपक्ष में मतदान किया. हालांकि, उनकी ऐतिहासिक पदोन्नति में महीनों की देरी हुई.

प्रमोशन में महीने लगे

जब राष्ट्रपति जो बाइडेन ने इस साल जुलाई में इस पद के लिए उनका नाम चुना, तो फ्रैंचिटी वरिष्ठ जनरलों और ध्वज अधिकारियों की एक लंबी सूची में शामिल हो गईं, जिनकी पदोन्नति एक रिपब्लिकन सीनेटर द्वारा रोक दी गई थी.

पेंटागन की नीति है कि अगर कोई सैन्यकर्मी गर्भपात कराना चाहता है, तो उसे उस राज्य की यात्रा करने की अनुमति दी जाएगी जहां इसकी अनुमति है. इसी नीति के विरोध में अलबामा राज्य के सीनेटर टॉमी टुब्रोवे ने सेना में ऐसी पदोन्नति को रोक दिया है.

पिछले साल अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट ने 1973 के ऐतिहासिक रो वर्सेज वेड फैसले को पलट दिया, जिसने गर्भपात के संवैधानिक अधिकार को मान्यता दी थी. पेंटागन ने तब कहा कि वह उन सेवा सदस्यों के यात्रा व्यय को कवर करेगा जिन्हें राज्य कानूनों के कारण गर्भपात के लिए राज्य से बाहर जाना पड़ता है.

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद से कई राज्यों में गर्भपात की पहुंच काफी हद तक प्रतिबंधित कर दी गई है. सेना का तर्क है कि सैन्य कर्मियों को गर्भपात की सुविधा से वंचित नहीं किया जाना चाहिए, क्योंकि उन्हें कब और कहां तैनात किया जाएगा, इस पर उनका नियंत्रण नहीं है.

38 साल का अनुभव

फ्रैंचेटी एक जमीनी युद्ध अधिकारी हैं, जिन्होंने सभी स्तरों पर कमान संभाली हैं, जिसमें एक नौसैनिक विध्वंसक और एक विमान वाहक स्ट्राइक ग्रुप कमांडर के रूप में दो कार्यकाल शामिल हैं.

फ्रैंचेटी के पास इस क्षेत्र में 38 साल का अनुभव है और वह अमेरिकी नौसेना में चार सितारा एडमिरल के पद पर पदोन्नत होने वाली केवल दूसरी महिला हैं.

सीनेट द्वारा फ्रैंचेटी की पुष्टि के साथ ही जनरल डेविड डब्ल्यू एल्विन को भी अगले वायु सेना प्रमुख के रूप में नियुक्ति की पुष्टि की गई है. इसके अलावा मरीन कॉर्प्स लेफ्टिनेंट जनरल क्रिस्टोफर महोनी को मरीन कॉर्प्स के सहायक कमांडेंट के रूप में जिम्मा सौंपा गया है.

एए/सीके (रॉयटर्स, एपी)