देश की खबरें | कोरोना वायरस टीकाकरण के लिए टीके की पहली खेप राजस्‍थान पहुंची
एनडीआरएफ/प्रतीकात्मक तस्वीर (Photo Credits: ANI)

जयपुर, 13 जनवरी कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए प्रस्‍तावित टीकाकरण के मद्देनजर टीके की पहली खेप बुधवार को जयपुर व उदयपर पहुंची। राज्‍य में टीकाकरण के पहले चरण में 16 जनवरी से राजकीय व निजी चिकित्‍सा संस्थानों में कार्यरत स्वास्थ्यकर्मियों को प्रतिरक्षक टीके लगाये जायेंगे। मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोत ने अधिकारियों से कहा है कि वे पूरे समन्‍वय से इस टीकाकरण प्रक्रिया को करवाएं।

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डा.रघु शर्मा ने बताया कि राज्‍य में कोवैक्सिन के 1000 डिब्बे यानी कुल 20,000 खुराकें तथा कोविशील्ड की कुल 5,63,500 खुराकें अभी राजस्‍थान को मिली हैं।

उन्‍होंने कहा कि इन टीकों का पूरी सुरक्षा एवं तकनीकी मापदंड़ो के अनुसार सुरक्षित भंडारण कर लिया गया है। उन्होंने बताया कि राज्‍य में तीन करोड़ से अधिक डोज सुरक्षित रखने की क्षमता उपलब्ध है।

मंत्री ने बताया कि राज्‍य में कोरोना प्रतिरक्षण टीकाकरण की सभी तैयारियां व आवश्‍यक व्यवस्थाएं पूरी कर ली गयी हैं तथा मुख्यमंत्री के स्तर पर भी टीकाकरण प्रबंधन की समीक्षा की जा रही है। उन्होंने बताया कि केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा निर्धारित दिशा-निर्देशों के अनुसार ऑनलाइन साफ्टवेयर में पंजीकृत लोगों का ही टीकाकरण किया जायेगा।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (जयपुर प्रथम) डॉ. नरोत्तम शर्मा ने बताया कि हैदराबाद से टीके की 20,000 खुराक जयपुर पहुंचीं हैं। उन्होंने बताया कि टीका सबसे पहले करीब 80,000 स्‍वास्‍थ्‍यकर्मियों को लगाया जाएगा। टीकाकरण के लिये जयपुर में अभी 238 केन्द्र चिन्हित किये गए हैं।

वहीं मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोत ने कोरोना टीकाकरण को बड़ा काम बताते हुए अधिकारियों से कहा कि सभी मिलकर आपसी समन्वय के साथ टीकाकरण प्रक्रिया करवाएं। जिला कलेक्टर व अन्‍य आला अधिकारियों के साथ हुई वीडियो कॉन्फ्रेंस में उन्‍होंने कहा, ‘‘आपका यह प्रयास होना चाहिए कि टीकाकरण में भी राजस्थान देशभर में अव्वल रहे।’’

इससे पहले गहलोत ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘मकरसंक्रांति राजस्थान के लिए नई आशा लेकर आई है। राज्य में कोरोना के मामले काफ़ी कम हुए हैं, वहीं टीकाकरण के लिए टीके भी आज राज्‍य में पहुंच गए है। हम केंद्र के दिशा निर्देश के मुताबिक टीकाकरण की सुचारू प्रक्रिया सुनिश्चित करेंगे व कोरोना प्रबंधन की तरह ही टीकाकरण का मॉडल पेश करेंगे।’’

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)