देश की खबरें | सीयूईटी (यूजी) परीक्षा के दूसरे दिन भी तकनीकी खामियां सामने आईं

नयी दिल्ली, पांच अगस्त स्नातक पाठ्यक्रमों के लिए संयुक्त विश्वविद्यालय प्रवेश परीक्षा (सीयूईटी) के दूसरे दिन शुक्रवार को भी छात्रों को तकनीकी खामियों का सामना करना पड़ा।

परीक्षा देने आए कई उम्मीदवारों ने दावा किया कि उन्हें केवल इस सूचना के लिए दो घंटे इंतजार करना पड़ा कि दिन के लिए निर्धारित परीक्षाएं रद्द कर दी गई हैं।

हालांकि, राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (एनटीए) ने कहा कि देशभर के 95 फीसदी केंद्रों पर सीयूईटी के पहले चरण का संचालन सुचारू रूप से हुआ।

दिल्ली विश्वविद्यालय से समाज शास्त्र में बीए (ऑनर्स) करने की इच्छुक गनिका ने कहा, ‘‘मैं छतरपुर से नोएडा सेक्टर-64 (लगभग 34 किलोमीटर) के परीक्षा केंद्र पर आयी। हमें कंप्यूटर पर बिठाया गया। दोपहर 12 बजे, हमें बताया गया कि आज परीक्षा आयोजित नहीं की जाएगी क्योंकि तकनीकी समस्याएं हैं। कल, मेरी बहन नरेला से इस केंद्र (लगभग 84 किलोमीटर) तक आई थी, लेकिन इसी कारण उसे वापस लौटना पड़ा।’’

उन्होंने कहा, ‘‘यह कुप्रबंधन की हद है।’’

सीयूईटी में शामिल होने आयीं हिमांशी उदार ने भी कुछ इसी तरह की शिकायत करते हुए कहा, ‘‘मैं केंद्र पर समय से पहुंचने के लिए द्वारका सेक्टर-51 (44 किलोमीटर) के अपने घर से सुबह 5:30 बजे निकली थी। लेकिन करीब तीन घंटे बाद हमें बताया गया कि आज परीक्षा नहीं होगी और हमें 12 अगस्त को दोबारा आना है। इतनी दूर से आना-जाना बेहद मुश्किल काम है।’’

हिमांशी की मां ने कहा कि अभिभावकों के लिए भी यह मुश्किल भरा है क्योंकि कई लोगों को बच्चों के साथ आने के लिए काम से छुट्टी लेनी पड़ती है।

गौरतलब है कि सीयूईटी (यूजी) की दूसरी पाली की बृहस्पतिवार को प्रस्तावित परीक्षा सभी 489 केंद्रों पर रद्द कर दी गई थी, जबकि पहली पाली के दौरान 17 राज्यों के कुछ केंद्रों पर परीक्षा टालनी पड़ी।

एनटीए की वरिष्ठ निदेशक साधना पाराशर ने कहा था, ‘‘विभिन्न प्रशासनिक और तकनीकी कारणों से, चार अगस्त (पहली पाली) के लिए निर्धारित सीयूईटी-यूजी, 2022 को 17 राज्यों के कुछ परीक्षा केंद्रों के लिए 12 अगस्त तक के लिए स्थगित कर दिया गया है।’’

एनटीए ने बृहस्पतिवार को कहा था कि परीक्षा में शामिल नहीं हो सके छात्रों का प्रवेश पत्र वैध रहेगा जबकि शुक्रवार को कुछ छात्रों ने दावा किया कि उनसे प्रवेश पत्र फाड़ देने को कहा गया।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)