देश की खबरें | संगीतकार हम्सलेखा पुलिस के समक्ष पेश हुए

बेंगलूरू, 25 नवंबर प्रख्यात संगीतकार हम्सलेखा पेजावर मठ के दिवंगत विश्वेश तीर्थ स्वामी पर बयान देने से जुड़े मामले के संबंध में बृहस्पतिवार को पुलिस के समक्ष पेश हुए। इस बयान को लेकर वह विवादों में घर गए हैं।

यहां बसावनागुडी पुलिस थाने के पास उस समय थोड़ी अव्यवस्था उत्पन्न हो गयी जब हम्सलेखा पेश हुए। बजरंग दल और हिंदू समर्थक संगठनों से जुड़े होने का दावा करने वाले कुछ लोगों ने संगीतकार के खिलाफ नारे लगाए जबकि अभिनेता चेतन अहिंसा और लोगों के एक समूह ने उनका समर्थन किया।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि हस्मलेखा करीब एक घंटे बाद थाने से रवाना हुए और मामले में जांच चल रही है।

हम्सलेखा को दो दिन पहले पुलिस के समक्ष पेश होने का नोटिस जारी किया गया था। उन पर दिवंगत मठ प्रमुख पर दिए बयान के संबंध में एक हफ्ते पहले दर्ज मामले के बाद यह नोटिस दिया गया।

इस महीने की शुरुआत में मैसूरू में एक कार्यक्रम में जातीय अवरोधों से पार पाने की दिवंगत मठाधीश की कोशिशों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा था, ‘‘मठ प्रमुख एक दलित के घर जा सकते हैं लेकिन क्या वह वहां 'चिकन' खा सकते हैं, अगर उन्हें यह परसा जाए? अगर बकरे का खून उन्हें परोसा जाएगा तो क्या वह खाएंगे? या क्या परोसे जाने पर उसका कलेजा खाएंगे? नहीं। ... दलित के घर जाना कोई बड़ी उपलब्धि नहीं है।’’

इस वीडियो के विवादों में आने पर मौजूदा पेजावर मठाधीश विश्वप्रसन्न तीर्थ स्वामी और हिंदू समर्थक संगठनों ने उनके बयान की आलोचना की, जिसके बाद हम्सलेखा ने माफी मांग ली थी।

पुलिस थाने से निकलते वक्त हम्सलेखा ने बृहस्पतिवार को कहा कि उनके पास कहने के लिए कुछ नहीं है। उनके वकील ने बताया कि पूछताछ के बाद हम्सलेखा को कहा गया है कि उन्हें जब भी बुलाया जाएगा तो पेश होना पड़ेगा।

बेंगलुरू-दक्षिण के पुलिस उपायुक्त हरीश पांडेय ने हम्सलेखा के थाने से रवाना होने के बाद मीडिया से कहा, ‘‘मैंने जांच अधिकारी से बात नहीं की है, मुझे भरोसा है कि जांच अधिकारी प्रश्नावली को पूरा करेंगे, चाहे ये एक बार में हो, दो या तीन बार में हो। यह आईओ और मामले में शामिल व्यक्ति से मिल रहे सहयोग पर निर्भर करता है।’’

यह पूछे जाने पर कि क्या हम्सलेखा को फिर से बुलाया जाएगा, इस पर उन्होंने कहा कि आईओ जांच पूरी करने के लिए आवश्यक कदमों को उठाएंगे क्योंकि वह अदालत में जवाबदेह हैं।

इस बीच, हम्सलेखा का बचाव करते हुए कांग्रेस विधायक प्रियांक खड़गे ने कहा कि संगीतकार ने जो कहा है उसमें कुछ गलत नहीं है और उन्होंने उनके खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों को ‘‘मनुवादी, संविधान विरोधी’’ बताया।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)