देश की खबरें | छत्तीसगढ़ में भारी बारिश से बाढ़ की स्थिति, एक की मौत, दो लोग बहे

रायपुर, 15 सितंबर छत्तीसगढ़ में पिछले तीन दिनों से जारी भारी बारिश के कारण बाढ़ जैसे हालात बन गए हैं। बारिश थमने के बाद बुधवार को राज्य में बारिश से संबंधित घटनाओं के कारण रायपुर जिले में एक व्यक्ति की मृत्यु होने तथा बेमेतरा जिले में एक महिला समेत दो लोगों के नदी में बहने की जानकारी सामने आयी है।

राज्य में बारिश के कारण कई मकान क्षतिग्रस्त हुए तथा सैकड़ों एकड़ क्षेत्र में फसलों को नुकसान पहुंचा है।

राज्य के वरिष्ठ अधिकारियों ने बुधवार को यहां बताया कि राज्य के कई जिलों में पिछले तीन दिनों से जारी भारी बारिश से बुधवार को राहत मिली है। भारी बारिश के कारण राज्य में अनेक स्थानों पर नदी-नालों के उफान पर होने तथा जलभराव की स्थिति की जानकारी मिली है।

अधिकारियों ने बताया कि राज्य के राजस्व और आपदा प्रबंधन विभाग ने सभी जिलाधिकारियों को 17 सितंबर तक बारिश और इससे हुए नुकसान की स्थिति पर एक रिपोर्ट प्रस्तुत करने के लिए कहा है।

उन्होंने बताया कि रायपुर, गरियाबंद, महासमुंद और धमतरी समेत अन्य जिलों में पिछले तीन दिनों तक हुई लगातार बारिश से कई नदी, नाले उफान पर आ गए। इससे सामान्य जन जीवन प्रभावित हुआ है।

रायपुर जिला प्रशासन के अधिकारियों ने बताया कि 13 सितंबर को जिले में भारी बारिश से विभिन्न स्थानों पर कम से कम 144 घरों को नुकसान पहुंचा है। वहीं, बारिश से संबंधित घटना में एक व्यक्ति की मौत हुई है।

अधिकारियों ने बताया कि जिले से होकर बहने वाली महानदी में बाढ़ आने के कारण मंगलवार रात जिला प्रशासन और राज्य आपदा मोचन बल (एसडीआरएफ) के संयुक्त दल ने दो घंटे तक चले बचाव अभियान के बाद अभनपुर विकासखंड के अंतर्गत लखना-कोलियारी गांव में फंसे आठ खेतिहर मजदूरों को सुरक्षित निकाल लिया।

बेमेतरा जिले से मिली जानकारी के अनुसार, मंगलवार शाम को जिले के परपोड़ी थाना क्षेत्र के अंतर्गत कोगियाकला गांव के करीब सुरही नदी में पुल को पार करते समय 32 वर्षीय महिला नदी के तेज बहाव में बह गई। वहीं एक अन्य घटना में 18 वर्षीय युवक नदी में नहाते समय तेज धारा में बह गया।

उन्होंने बताया कि होमगार्ड और पुलिस के जवानों ने नदी में बहे युवक और महिला की तलाश शुरू कर दी है।

राज्य के गरियाबंद जिले से मिली जानकारी के अनुसार, जिले में पुलिस और एसडीआरएफ के जवानों ने मंगलवार को छह स्थानों पर बाढ़ में फंसे 18 लोगों को सुरक्षित बचाया है।

गरियाबंद जिले के अधिकारियों ने बताया कि मंगलवार शाम तक जिले में बाढ़ के कारण किसी की भी मृत्यु नहीं हुई है। हालांकि दो पशुओं की मौत हुई है। उन्होंने बताया कि जिले में 403 मकान क्षतिग्रस्त हुए हैं तथा 322 हेक्टेयर क्षेत्र में फसलों को नुकसान पहुंचा है।

अधिकारियों ने बताया कि जिले में बाढ़ से प्रभावित लोगों के लिए स्थानीय पंचायतों में रहने और भोजन की व्यवस्था की गई है। जिला प्रशासन ने लोगों से अनुरोध किया है कि नदियों में अभी भी बाढ़ की स्थिति बनी हुई है इसलिए वह अपने घरों में ही रहें और नदियों के आसपास ना जाएं। साथ ही पुल के ऊपर से बहते हुए पानी को पार ना करने की भी अपील की गई है।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)