देश की खबरें | फतेहपुर सीकरी से गांधी के जन्मस्थान तक: एएसआई स्थलों पर 15 अगस्त को फहराया जाएगा तिरंगा

नयी दिल्ली, छह अगस्त लखनऊ में 1857 के सिपाही विद्रोह के दौरान प्रमुख घटनाओं के स्थान रेजिडेंसी से लेकर पोरबंदर में महात्मा गांधी के जन्मस्थान तक भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) अपने 150 स्मारक स्थलों पर 15 अगस्त को राष्ट्रीय ध्वज फहराने की तैयारी रहा है। अधिकारियों ने शनिवार यह जानकारी दी।

इसके साथ ही 150 स्मारकों को तिरंगे की थीम पर जगमग करने का काम भी किया जा रहा है, जिसके कुछ दिनों में शुरू होने की उम्मीद है।

इस संबंध में एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, "भारत की विविधता और ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ की सच्ची भावना के साथ एएसआई स्थलों पर हमारा राष्ट्रीय ध्वज फहराया जाएगा। यह हमारे आगरा सर्कल में फतेहपुर सीकरी और आगरा किले में फहराया जाएगा। दिल्ली में, फिरोज शाह कोटला और पुराना किला में तिरंगा फहराया जाएगा।

उन्होंने कहा कि यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल सूची में शामिल ताजमहल उन स्मारक स्थलों की सूची में नहीं है जहां 15 अगस्त को राष्ट्रीय ध्वज फहराया जाएगा।

मुख्य स्वतंत्रता दिवस समारोह लालकिले में प्रतिवर्ष होता है जहाँ प्रधानमंत्री मुगल-युग के स्मारक की प्राचीर पर राष्ट्रीय ध्वज फहराते हैं। यह दिल्ली में कुतुब मीनार और हुमायूँ के मकबरे के अलावा यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल सूची में शामिल है।

एएसआई के अधिकारी ने कहा कि ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के उपलक्ष्य में स्वतंत्रता दिवस पर पूरे भारत में 150 धरोहर स्थलों पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया जाएगा।

केंद्र सरकार ने एक 'हर घर तिरंगा' अभियान शुरू किया है जिसके तहत लोगों को भारत की आजादी के 75 साल होने के उपलक्ष्य में अपने घरों में तिरंगा फहराने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है।

अधिकारी ने कहा कि जिन अन्य स्थलों पर तिरंगा फहराया जाएगा उनमें लखनऊ में ब्रिटिश काल का रेजिडेंसी, फैजाबाद का गुलाब बारी, फोर्ट वेल्लोर (चेन्नई सर्कल), वारंगल किला (हैदराबाद सर्कल) और किला, चित्रदुर्ग (बैंगलोर सर्कल) शामिल हैं।

उन्होंने कहा, "हमारा राष्ट्रीय ध्वज गुजरात के पोरबंदर में गांधी जी के जन्मस्थान, अखनूर किला, रामनगर पैलेस, लेह में प्रतिष्ठित ठिकसे मठ, अजंता एलोरा गुफा स्थल, हड़प्पा-युग के धोलावीरा स्थल और कई अन्य स्मारक स्थलों पर भी फहराया जाएगा।"

अधिकारियों ने कहा कि इन 150 स्थलों पर झंडा 15 अगस्त के बाद भी लगा रहेगा। हालांकि यह तत्काल तय नहीं किया गया है कि क्या झंडा स्थायी रूप से बना रहेगा।

अन्य स्थलों में दौलताबाद, शेरगढ़, भानगढ़, जैसलमेर किला, दमन किला, दीव किला और पावागढ़ शामिल हैं।

इसके अलावा, आजादी का अमृत महोत्सव के तहत केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय ने पांच से 15 अगस्त तक देश भर में सभी एएसआई-संरक्षित स्मारकों और स्थल परिसरों में घरेलू और विदेशी आगंतुकों के लिए मुफ्त प्रवेश की घोषणा की है।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)