देश की खबरें | भाजपा ने प.बंगाल में हिंसा के लिए तृणमूल कांग्रेस पर साधा निशाना

कोलकाता/नयी दिल्ली, चार मई भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा ने मंगलवार को कहा कि पश्चिम बंगाल में चुनाव बाद हुई व्यापक हिंसा ने उन अत्याचारों की याद दिला दी है, जिसका सामना लोगों को देश के विभाजन के दौरान करना पड़ा था। वहीं, भाजपा नेताओं ने पश्चिम बंगाल में पार्टी कार्यकर्ताओं को निशाना बनाये जाने के खिलाफ मंगलवार को विभिन्न शहरों में प्रदर्शन किया।

पश्चिम बंगाल में हिंसा और आगजनी की कई घटनाओं के बीच नड्डा भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ एकजुटता व्यक्त करने के लिए राज्य पहुंचे। भाजपा ने आरोप लगाया है कि राज्य में हुई हिंसा में उसके कई सदस्य मारे गए हैं।

भाजपा ने हिंसा के लिए तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) को जिम्मेदार ठहराया है और कहा है कि तृणमूल कांग्रेस प्रमुख एवं मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के राज्य विधानसभा चुनावों में भारी जीत हासिल करने के बाद भाजपा के कार्यकर्ताओं एवं पार्टी से सहानुभूति रखने वालों को निशाना बनाया जा रहा है।

नड्डा दो दिवसीय दौरे पर पश्चिम बंगाल पहुंचे हैं और उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी के कार्यकर्ता हिंसक हमलों का सामना कर रहे हैं।

उन्होंने कोलकाता स्थित नेताजी सुभाष चंद्र बोस अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर संवाददाताओं से कहा, ‘‘हम इस वैचारिक लड़ाई और तृणमूल कांग्रेस की गतिविधियों से लड़ने के लिए प्रतिबद्ध हैं, जो असहिष्णुता से भरी हुई है।’’

भाजपा के वरिष्ठ नेता ने कहा, ‘‘मैंने विभाजन के दौरान हुए अत्याचारों के बारे में सुना था, लेकिन मैंने चुनाव के बाद ऐसी हिंसा नहीं देखी है, जो पश्चिम बंगाल में चुनाव परिणाम (2 मई को) घोषित होने के बाद राज्य में हो रही है।’’

उन्होंने बाद में भाजपा के कई कार्यकर्ताओं के परिवारों से मुलाकात की, जिन्हें हिंसा में निशाना बनाया गया है।

उन्होंने कहा, ‘‘हम यह संदेश देना चाहते हैं कि देश भर के करोड़ों भाजपा कार्यकर्ता उनके साथ हैं।’’

नड्डा ने राज्य में पार्टी कार्यकर्ताओं को ‘‘क्रूरता’’ के विरूद्ध लोकतांत्रिक तरीके से लड़ने का आह्वान किया।

दिन में बाद में नड्डा भाजपा के उस कार्यकर्ता के घर गए जिस पर दक्षिण 24 परगना जिले के सोनारपुर में कथित तौर पर हमला किया गया था। नड्डा ने दावा किया कि भाजपा कार्यकर्ताओं पर हमला करने के आरोपी व्यक्तियों में से किसी को भी अभी तक पुलिस द्वारा गिरफ्तार नहीं किया गया है। उन्होंने कहा, ‘‘यह राज्य में कानून और व्यवस्था की स्थिति को दर्शाता है।’’

नड्डा ने यह आरोप लगाया कि पिछले कुछ दिनों के दौरान दो महिलाओं के साथ गैंगरेप किया गया और 11 व्यक्ति मारे गए हैं। उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी के मुख्यमंत्रित्व काल में, महिलाओं ने बंगाल में सबसे अधिक अत्याचारों का सामना किया है।

नड्डा ने कहा, ‘‘इस सब के खिलाफ कार्रवाई करने के बजाय, उन्होंने एक बार फिर तुष्टिकरण, जबरन वसूली और तानाशाही की अपनी नीतियां शुरू कर दी हैं।’’

भाजपा ने दावा किया है कि टीएमसी द्वारा कथित तौर पर की गई हिंसा में एक महिला सहित उसके छह कार्यकर्ता और समर्थक मारे गए हैं।

टीएमसी ने दावा किया है कि हिंसक घटनाओं में उसके तीन समर्थक मारे गए हैं।

वाम दलों और कांग्रेस सहित अन्य दलों के सदस्यों ने भी राज्य में हिंसा के लिए टीएमसी पर हमला बोला है, और आरोप लगाया है कि उनके सदस्यों और समर्थकों को भी निशाना बनाया गया है।

टीएमसी ने आरोपों से इनकार किया है।

बनर्जी ने इससे पहले लोगों से संयम बरतने और हिंसा के किसी भी रूप में शामिल नहीं होने के लिए कहा था।

राष्ट्रीय राजधानी में ऑनलाइन संवाददाता सम्मेलन में भाजपा ने कहा कि पश्चिम बंगाल ‘‘राज्य प्रायोजित हिंसा के कारण जल रहा है।’’

भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि टीएमसी को चुनाव जीतने के बाद उदार होना चाहिए था। उन्होंने हिंसा को दर्दनाक और दुखद बताया।

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में उम्मीदवार रहे पार्टी के अन्य नेता अर्निबान गांगुली ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस के लिए मतदान करने वाले लोगों से पूछा जाना चाहिए कि आज जो बंगाल में हो रहा है क्या वह सही है।

उन्होंने कहा, ‘‘तृणमूल कांग्रेस आज जो कर रही है वह नाजियों के जर्मनी वाले फासीवाद के निकट है। यह एक फासीवादी सरकार है। एक लोकतांत्रिक सरकार में ऐसी घटनाएं नहीं होतीं।’’

गांगुली ने इस मामले में अन्य राजनीतिक दलों के नेताओं की चुप्पी पर सवाल भी उठाए।

भाजपा ने एक बयान में कहा कि दिल्ली भाजपा ने विरोध प्रदर्शन किया जिसमें पार्टी सांसद मीनाक्षी लेखी और रमेश विधूड़ी और विधायकों ने गिरफ्तारी दी।

पटना में विरोध प्रदर्शन करने वालों में केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह और बिहार भाजपा प्रमुख संजय जायसवाल शामिल थे।

भाजपा ने पश्चिम बंगाल में हिंसा के खिलाफ बुधवार को देशव्यापी विरोध प्रदर्शन की घोषणा की है।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)