टिकटॉक के जरिए युवाओं के बीच पैठ बना रही जर्मनी की धुर-दक्षिणपंथी एएफडी पार्टी

जर्मनी में इन दिनों सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म टिकटॉक युवा मतदाताओं को आकर्षित करने का नया ठिकाना बन चुका है.

विदेश Deutsche Welle|
टिकटॉक के जरिए युवाओं के बीच पैठ बना रही जर्मनी की धुर-दक्षिणपंथी एएफडी पार्टी
प्रतीकात्मक तस्वीर (Photo Credit: Image File)

जर्मनी में इन दिनों सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म टिकटॉक युवा मतदाताओं को आकर्षित करने का नया ठिकाना बन चुका है. जर्मनी की धुर दक्षिणपंथी पार्टी एएफडी अन्य पार्टियों की तुलना में टिकटॉक पर काफी सक्रिय है.माक्सिमिलियान क्राह टिकटॉक का इस्तेमाल करने वाले सामान्य उपयोगकर्ताओं से अलग हैं. वह मध्यम उम्र के श्वेत व्यक्ति हैं, सूट पहनते हैं, जेब में रुमाल रखते हैं, ईसाई हैं, उनके आठ बच्चे हैं और वह एक नेता हैं. अपने छोटे-छोटे वीडियो में वे सिर्फ छोटी-छोटी बातें ही बोलते हैं और कुछ नहीं करते.

इसके बावजूद, वे काफी लोकप्रिय हो चुके हैं. उनके वीडियो लाखों लोग देखते हैं. इस वजह से वे इस प्लैटफॉर्म पर सबसे सफल जर्मन राजनेताओं में से एक बन गए हैं.

क्राह आगामी यूरोपीय संघ चुनावों में धुर दक्षिणपंथी ऑल्टरनेटिव फॉर जर्मनी (एएफडी) के प्रमुख उम्मीदवार भी हैं. साथ ही, वह पार्टी के सबसे कट्टरपंथी नेताओं में से एक हैं.

युवा मतदाताओं तक पहुंचने का लक्ष्य

अपने एक वीडियो में क्राह ने खुशी जताई कि अफगानिस्तान में एलजीबीटीक्यू समुदाय के लोगों के खिलाफ तालिबान कड़े फैसले ले रहा है. मार्च 2024 में टिकटॉक ने उनके चैनल को प्रतिबंधित कर दिया और उनके कुछ वीडियो को ब्लॉक कर दिया.

लिखित अनुरोध के जवाब में, टिकटॉक के प्रवक्ता ने डीडब्ल्यू को बताया, "हमारे सामुदायिक दिशानिर्देशों के बार-बार उल्लंघन के कारण, हमने क्राह को सूचित किया कि उनके द्वारा पोस्ट किए जाने वाले किसी भी वीडियो को 90 दिनों की अवधि के लिए ‘फॉर यू' फीड में देखने का सुझाव नहीं दिया जाएगा. ऐसा राजनीतिक खातों से जुड़े हमारे दिशानिर्देशों के अनुपालन के तहत किया गया.” दूसरे शब्दों में कहें, तो टिकटॉक ने क्राह के खाते पर सीमित तौर पर प्रतिबंध लगा दिया है और उसकी निगरानी की जा रही है.

एएफडी नेता क्राह छोटे वीडियो बनाते हैं, जो खास तौर पर इस सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म के हिसाब से होता है. बिना आवाज के भी इन छोटे वीडियो में बताए गए संदेश को आसानी से समझा जा सकता है. इनमें चीजें बहुत तेजी से बदलती रहती हैं. इन वीडियो के टाइटल और मैसेज थोड़े भड़काऊ और भावनात्मक होते हैं. इन्हें युवाओं को ध्यान में रखते हुए तैयार किया जाता है. जैसे, सरकार आपसे नफरत करती है, पोर्न मत देखो वगैरह.

सिर्फ क्राह ही नहीं, बल्कि ऐलिस वाइडेल और टीनो क्रुपल्ला जैसे एएफडी नेता भी टिकटॉक पर काफी सक्रिय हैं. इनके शॉर्ट वीडियो भी लाखों लent" class="container-fluid">

टिकटॉक के जरिए युवाओं के बीच पैठ बना रही जर्मनी की धुर-दक्षिणपंथी एएफडी पार्टी

जर्मनी में इन दिनों सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म टिकटॉक युवा मतदाताओं को आकर्षित करने का नया ठिकाना बन चुका है.

विदेश Deutsche Welle|
टिकटॉक के जरिए युवाओं के बीच पैठ बना रही जर्मनी की धुर-दक्षिणपंथी एएफडी पार्टी
प्रतीकात्मक तस्वीर (Photo Credit: Image File)

जर्मनी में इन दिनों सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म टिकटॉक युवा मतदाताओं को आकर्षित करने का नया ठिकाना बन चुका है. जर्मनी की धुर दक्षिणपंथी पार्टी एएफडी अन्य पार्टियों की तुलना में टिकटॉक पर काफी सक्रिय है.माक्सिमिलियान क्राह टिकटॉक का इस्तेमाल करने वाले सामान्य उपयोगकर्ताओं से अलग हैं. वह मध्यम उम्र के श्वेत व्यक्ति हैं, सूट पहनते हैं, जेब में रुमाल रखते हैं, ईसाई हैं, उनके आठ बच्चे हैं और वह एक नेता हैं. अपने छोटे-छोटे वीडियो में वे सिर्फ छोटी-छोटी बातें ही बोलते हैं और कुछ नहीं करते.

इसके बावजूद, वे काफी लोकप्रिय हो चुके हैं. उनके वीडियो लाखों लोग देखते हैं. इस वजह से वे इस प्लैटफॉर्म पर सबसे सफल जर्मन राजनेताओं में से एक बन गए हैं.

क्राह आगामी यूरोपीय संघ चुनावों में धुर दक्षिणपंथी ऑल्टरनेटिव फॉर जर्मनी (एएफडी) के प्रमुख उम्मीदवार भी हैं. साथ ही, वह पार्टी के सबसे कट्टरपंथी नेताओं में से एक हैं.

युवा मतदाताओं तक पहुंचने का लक्ष्य

अपने एक वीडियो में क्राह ने खुशी जताई कि अफगानिस्तान में एलजीबीटीक्यू समुदाय के लोगों के खिलाफ तालिबान कड़े फैसले ले रहा है. मार्च 2024 में टिकटॉक ने उनके चैनल को प्रतिबंधित कर दिया और उनके कुछ वीडियो को ब्लॉक कर दिया.

लिखित अनुरोध के जवाब में, टिकटॉक के प्रवक्ता ने डीडब्ल्यू को बताया, "हमारे सामुदायिक दिशानिर्देशों के बार-बार उल्लंघन के कारण, हमने क्राह को सूचित किया कि उनके द्वारा पोस्ट किए जाने वाले किसी भी वीडियो को 90 दिनों की अवधि के लिए ‘फॉर यू' फीड में देखने का सुझाव नहीं दिया जाएगा. ऐसा राजनीतिक खातों से जुड़े हमारे दिशानिर्देशों के अनुपालन के तहत किया गया.” दूसरे शब्दों में कहें, तो टिकटॉक ने क्राह के खाते पर सीमित तौर पर प्रतिबंध लगा दिया है और उसकी निगरानी की जा रही है.

एएफडी नेता क्राह छोटे वीडियो बनाते हैं, जो खास तौर पर इस सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म के हिसाब से होता है. बिना आवाज के भी इन छोटे वीडियो में बताए गए संदेश को आसानी से समझा जा सकता है. इनमें चीजें बहुत तेजी से बदलती रहती हैं. इन वीडियो के टाइटल और मैसेज थोड़े भड़काऊ और भावनात्मक होते हैं. इन्हें युवाओं को ध्यान में रखते हुए तैयार किया जाता है. जैसे, सरकार आपसे नफरत करती है, पोर्न मत देखो वगैरह.

सिर्फ क्राह ही नहीं, बल्कि ऐलिस वाइडेल और टीनो क्रुपल्ला जैसे एएफडी नेता भी टिकटॉक पर काफी सक्रिय हैं. इनके शॉर्ट वीडियो भी लाखों लोग देखते हैं. अतीत में, यह पार्टी युवाओं के बीच काफी ज्यादा लोकप्रिय नहीं थी, लेकिन इस पार्टी के नेता अपनी पुरानी पहचान को बदलने की पूरी कोशिश कर रहे हैं.

चुनाव को प्रभावित कर रहे टिकटॉक वीडियो

डीडब्ल्यू के साथ एक साक्षात्कार में, राजनीतिक सलाहकार योहानस हिल्जे ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि धुर दक्षिणपंथी पार्टी की रणनीति काम कर रही है. उन्होंने कहा, "टिकटॉक के इस्तेमाल और मतदाताओं की पसंद के बीच कोई सीधा संबंध नहीं है, लेकिन उन्हें पूरी तरह अलग भी नहीं किया जा सकता. 2023 में जर्मनी में दो स्थानीय चुनावों में एएफडी को युवा मतदाताओं का काफी ज्यादा समर्थन मिला. टिकटॉक ने इसमें अहम भूमिका निभाई.”

एएफडी इस वजह से भी युवा मतदाताओं तक पहुंच बनाने में सफल हो रही है, क्योंकि जर्मनी की अन्य प्रमुख पार्टियां टिकटॉक पर काफी ज्यादा सक्रिय नहीं हैं. जबकि अन्य देशों के राजनेता, जैसे कि बराक ओबामा, फ्रांस के राष्ट्रपति इमानुएल माक्रों, अर्जेंटीना के राष्ट्रपति हाविएर मिलेई, पोलैंड के राष्ट्रपति डॉनाल्ड टुस्क सहित कई नेता टिकटॉक पर काफी सक्रिय हैं. लाखों लोग उनके शॉर्ट वीडियो देखते हैं. वे इस प्लैटफॉर्म की मदद से लोगों तक अपनी बात पहुंचाने में सफल रहे हैं. जबकि, जर्मनी में सत्तारूढ़ पार्टी का कोई बड़ा नेता शायद ही टिकटॉक पर इस तरह से सक्रिय है.

हिल्जे ने पाया कि एएफडी सांसदों के हर एक वीडियो को करीब 4,58,000 बार देखा जाता है. वहीं, चांसलर ओलाफ शॉल्त्स की सेंटर-लेफ्ट सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी (एसपीडी) के हर वीडियो को करीब 72,000 व्यू ही मिलते हैं. हालांकि, हाल ही में शॉल्त्स ने यह संकेत दिया है कि वह जल्द ही टिकटॉक पर अपना निजी खाता बनाएंगे.

लोकतंत्र में भावनाओं की जगह

हिल्जे ने चेतावनी भरे लहजे में कहा कि सिर्फ वीडियो पोस्ट करना सही रणनीति नहीं है. अन्य पार्टियों को सिर्फ एएफडी और इसकी रणनीतियों की नकल नहीं करनी चाहिए, बल्कि लोकतांत्रिक भावनाओं को बढ़ावा देना चाहिए और उस आधार पर लोगों से जुड़ना चाहिए.

हिल्जे का सुझाव है कि मजबूत राजनीतिक बहस होनी चाहिए. लोगों से जुड़ने पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए. साथ ही, यह भी जरूरी है कि राजनेता व्यक्तिगत स्तर पर भी दिखाई दें, नहीं तो वे इस प्लैटफॉर्म पर मौजूद युवाओं से दूर हो जाएंगे और क्राह जैसे नेता उन्हें काफी पीछे छोड़ देंगे.

क्राह अपने राष्ट्रवादी, समलैंगिक विरोधी और षडयंत्रकारी उकसावों में लगातार लगे हुए हैं. वे अपने वीडियो के माध्यम से यह कहते हैं कि ‘उच्च वर्ग' के पास आप्रवासन के माध्यम से यानी विदेशियों को लाकर जर्मनी को तबाह करने का गुप्त प्लान है या ये भी हो सकता है कि वामपंथी विचारधारा वाले लोग युवाओं को ‘नरम' बनाने की कोशिश कर रहे हैं.

लगातार गैर-लोकतांत्रिक बयानबाजी और धुर-दक्षिणपंथी संगठनों से संबंधों के कारण एएफडी जर्मनी के राष्ट्रीय सुरक्षा अधिकारियों के निशाने पर है. व्यापारिक संघों, ट्रेड यूनियनों, चर्चों और कई सिविल सोसायटी संगठनों ने भी चेतावनी दी है कि एएफडी लोकतंत्र के लिए खतरा है.

दुष्प्रचार विरोधी कानून

सोशल मीडिया पर नफरत भरी बातें काफी ज्यादा बढ़ने की वजह से, यूरोपीय संघ के राजनेताओं ने कहा है कि वे इससे निपटने के लिए कड़ी कार्रवाई करना चाहते हैं. इसे ध्यान में रखते हुए, यूरोपीय संघ ने डिजिटल सर्विस ऐक्ट (डीएसए) पारित किया है.

इसके तहत, कई तरह के उपाय अपनाए गए हैं. डीएसए के तहत यह जरूरी है कि सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म अपने यूजर्स को गैरकानूनी कॉन्टेंट से बेहतर सुरक्षा दें. डीएसए का उल्लंघन करने वाले प्लैटफॉर्म प्रबंधकों पर उनके वार्षिक कारोबार का 6 फीसदी तक जुर्माना लगाया जा सकता है.

इन सब के बीच, टिकटॉक ने कहा है कि उसने पहले ही कानून लागू कर दिया है. कंपनी ने एक बयान में कहा कि प्लैटफॉर्म अब ‘सक्रिय रूप से' ऐसे गैर-कानूनी और हानिकारक कॉन्टेंट को हटा देगा जो उसके दिशानिर्देशों का उल्लंघन करते हैं. सितंबर 2023 तक, करीब 40 लाख ऐसे पोस्ट इस प्लैटफॉर्म से हटाए गए.

शहर पेट्रोल डीज़ल
New Delhi 96.72 89.62
Kolkata 106.03 92.76
Mumbai 106.31 94.27
Chennai 102.74 94.33
View all
Currency Price Change
शहर पेट्रोल डीज़ल
New Delhi 96.72 89.62
Kolkata 106.03 92.76
Mumbai 106.31 94.27
Chennai 102.74 94.33
View all
Currency Price Change