दुनिया के वो 5 खतरनाक बल्लेबाज जिन्होंने बतौर गेंदबाज करियर किया था शुरू, बॉलरों के छुड़ा दिए छक्के
शाहिद अफरीदी और सनथ जयसूर्या (Photo Credits: Getty Images)

नई दिल्ली: मौजूदा समय में क्रिकेट के फैंस आपको लगभग हर देश में मिल जाएंगे. इस खेल में देखा गया है कि कई बार खिलाड़ी गेंदबाज के रूप में टीम में शामिल किए जाते हैं, हालांकि धीरे-धीरे वह गेंदबाज के बजाय बल्लेबाज के रूप में स्थापित हो जाते हैं. वहीं कुछ खिलाड़ी इस खेल में बल्लेबाज के रूप में आते हैं, लेकिन धीरे-धीरे वह एक गेंदबाज के रूप में स्थापित हो जाते हैं. आज हम ऐसे ही कुछ खिलाड़ियों के बारे में बात करेंगे जो टीम में तो आए एक गेंदबाज के रूप में, लेकिन उन्होंने गेंदबाजी के साथ-साथ अपने बल्लेबाजी से भी अपने टीम के लिए महत्वपूर्ण योगदान दिया.

1- शाहिद अफरीदी:

पाकिस्तान के पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी (Shahid Afridi) के बारे में कौन नहीं जानता है. बता दें कि अफरीदी पाकिस्तान क्रिकेट टीम में बतौर स्पिन गेंदबाज के रूप में शामिल किए गए थे. हालांकि उन्होंने धीरे-धीरे अपने खेल में सुधार किया और वो आज दुनिया के महान ऑलराउंडरों में से एक गिने जाते हैं. बता दें कि उन्होंने पाकिस्तान के लिए 17 टेस्ट मैच में 1716 रन, 398 वनडे मैच में 8064 और 99 T20 मैच में 1416 रन बनाए हैं.

इसके अलावा उन्होंने गेंदबाजी में अपनी टीम के लिए कुल 149 विकेट चटकाए हैं. अफरीदी के नाम टेस्ट क्रिकेट में 69, वनडे में 76 और T20 क्रिकेट में 4 सफलता दर्ज है.

यह भी पढ़ें- Happy Birthday Brian Lara: 51 साल के हुए ब्रायन लारा, जानें क्रिकेट के मैदान में कैसा रहा उनका प्रदर्शन

2- सनथ जयसूर्या:

श्रीलंका के पूर्व सलामी बल्लेबाज एवं कप्तान सनथ जयसूर्या (Sanath Jayasuriya) भी इंटरनेशनल क्रिकेट से पहले एक स्पिन गेंदबाज के रूप में ज्यादा जानें जाते थे. लेकिन उन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में सफेद गेंद से पारी की शुरुआत करते हुए क्रिकेट की परिभाषा ही बदल दी. बता दें कि जयसूर्या के नाम वनडे प्रारूप में 13430 रन दर्ज है. इसके अलावा उन्होंने अपनी टीम के लिए टेस्ट क्रिकेट में 6973 और T20 क्रिकेट में 629 रन बनाए हैं.

3- केविन पीटरसन:

इंग्लैंड के पूर्व धाकड़ ऑलराउंडर खिलाड़ी केविन पीटरसन (Kevin Pietersen) ने खेल के शुरूआती पलों में एक ऑफ स्पिन गेंदबाजी के रूप में कदम रखा था, हालांकि उन्हें अपने डोमेस्टिक क्रिकेट में ही इसका अहसास हो गया की वह गेंदबाजी के बजाय बल्लेबाजी में ज्यादा अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं. बता दें कि उन्होंने इंग्लैंड के लिए 104 टेस्ट मैच खेलते हुए 8181 रन बनाए हैं. इसके अलावा उन्होंने वनडे में 4440 और T20 क्रिकेट में 1176 रन बनाए हैं.

यह भी पढ़ें- क्रिकेट इतिहास में अहम है 1 मई, आज ही हुआ था वनडे का आगाज जिसमे सचिन विराट ने गाड़े झंडे

इसके अलावा गेंदबाजी में उन्होंने अपनी टीम के लिए 104 टेस्ट मैच की 58 इनिंग्स में 15 सफलता प्राप्त की है.

4- शेन वॉटसन:

पूर्व ऑस्ट्रेलियाई सलामी बल्लेबाज शेन वॉटसन (Shane Watson) ने अपने क्रिकेट करियर की शुरुआत एक मध्य गति के तेज गेंदबाज के रूप में की थी. वॉटसन ने अपने क्रिकेट करियर का जब शुरुआत किया. उस वक्त ऑस्ट्रेलिया की टीम में ब्रेट ली, ग्लेन मैकग्रा, नाथन ब्रेकन जैसे खतरनाक तेज गेंदबाज थे. ऐसे में उन्हें टीम में बने रहने की कड़ी चुनौती थी. ऐसे में उन्होंने अपने बल्लेबाजी पक्ष पर ध्यान देना शुरू किया और धीरे-धीरे वह एक सर्वश्रेष्ठ ऑलराउंडर के रूप में बनकर उभरे.

5- शोएब मलिक:

पाकिस्तान के मध्यक्रम के दिग्गज बल्लेबाज शोएब मलिक (Shoaib Malik) ने भी अपने शुरूआती दिनों में स्पिन गेंदबाज के रूप में कदम रखा था. उस वक्त पाकिस्तान के टीम में सक्लेन मुश्ताक और शाहिद अफरीदी अपने चरम पर थे ऐसे में उन्हें टीम में जगह बनाए रखने के लिए अपनी बल्लेबाजी में निखार लाना पड़ा.

बता दें कि इन खिलाड़ियों के अलावा भी कई दिग्गज क्रिकेटरों ने क्रिकेट इतिहास में अपनी टीम के लिए एक गेंदबाज के रूप में कदम रखा था, लेकिन धीरे-धीरे परिस्थिति के अनुसार चेंज होते हुए वह एक पूर्ण बल्लेबाज बन गए.