Marathi Patrakar Din 2023 Wishes: मराठी पत्रकार दिवस की इन WhatsApp Messages, GIF Greetings, HD Images और Wallpapers को भेजकर दें शुभकामनाएं
मराठी पत्रकार दिन 2024 (Photo Credits: File Image)

Marathi Patrakar Din 2023 Wishes in Marathi: हर साल 6 जनवरी को मराठी पत्रकार दिवस (Marathi Patrakar Din) मनाया जाता है. दरअसल, मराठी (Marthi) के पहले अखबार 'दर्पण' (Darpan) की शुरुआत अखबार के जनक बालशास्त्री जांभेकर (Balshastri Jambhekar) द्वारा इसी दिन की गई थी, इसलिए महाराष्ट्र (Maharashtra) में इसे मराठी पत्रकार दिन के तौर पर मनाया जाता है. आपको बता दें कि बालशास्त्री जांभेकर मराठी भाषा के पहले पत्रकार हैं, जिन्होंने पहले मराठी समाचार पत्र 'दर्पण' के माध्यम से देश में मराठी पत्रकारिता के युग की शुरुआत की. 6 जनवरी 1812 को कोंकण के एक साधारण परिवार में जन्में बालशास्त्री ने जब मराठी पत्रकारिता युग की शुरुआत की, तब वे महज 34 साल के थे. उन्होंने अपने विचारों, कार्य करने के तरीकों और समाज में जागरूकता लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई.

बालशास्त्री जांभेकर ने बॉम्बे नेटिव एजुकेशन सोसाइटी के स्कूल में अध्ययन करते हुए, इतना ज्ञान अर्जित कर लिया कि उन्हें 20 साल की उम्र में एक प्रोफेसर के रूप में नियुक्त किया गया. यह पद इससे पहले किसी भारतीय ने कभी नहीं संभाला था. मराठी पत्रकार दिन के इस खास अवसर पर आप इन मराठी विशेज, वॉट्सऐप मैसेजेस, जीआईएफ ग्रीटिंग्स, एचडी इमेजेस और वॉलपेपर्स को भेजकर शुभकामनाएं दे सकते हैं.

1- मराठी पत्रकार दिनाच्या शुभेच्छा!

मराठी पत्रकार दिन 2024 (Photo Credits: File Image)

2- सर्व पत्रकार बंधू-भगिनींना मराठी पत्रकार दिनाच्या शुभेच्छा!

मराठी पत्रकार दिन 2024 (Photo Credits: File Image)

3- मराठी पत्रकार दिनाच्या खूप खूप शुभेच्छा!

मराठी पत्रकार दिन 2024 (Photo Credits: File Image)

4- मराठी पत्रकार दिनाच्या हार्दिक शुभेच्छा!

मराठी पत्रकार दिन 2024 (Photo Credits: File Image)

5- पत्रकार बंधू-भगिनींना मराठी पत्रकार दिनाच्या हार्दिक शुभेच्छा!

मराठी पत्रकार दिन 2024 (Photo Credits: File Image)

6- पत्रकार बंधू-भगिनींना मराठी पत्रकार दिनाच्या मनापासून शुभेच्छा!

मराठी पत्रकार दिन 2024 (Photo Credits: File Image)

सन 1834 में जांभेकर को एलफिंस्टन कॉलेज में पहले समर्पित व्याख्याता के रूप में नियुक्त किया गया था. उन्होंने जेम्स ऑगस्टस हिक्की के अंग्रेजी साप्ताहिक 'बंगाल गजट' के 50 साल बाद बालशास्त्री ने पहला मराठी अखबार दर्पण शुरू किया. दर्पण का प्रकाशन 6 जनवरी, 1832 को हुआ और उन्होंने संपादक का पद संभाला. जांभेकर ने प्राचीन लिपियों का अध्ययन किया और कोंकण शिलालेखों व ताम्रपत्रों पर शोध पत्र लिखें. वह पाठकों को मुद्रित रूप में ज्ञानेश्वरी देने वाले पहले व्यक्ति थे. मराठी का पहला अखबार दर्पण करीब साढ़े आठ साल तक चला और जुलाई 1840 में इसका अंतिम अंक प्रकाशित हुआ.