देश की खबरें | विजयवर्गीय ने ममता को दी चुनौती, साबित करें कृषि विधेयक किसानों के लिए नुकसानदेह हैं
एनडीआरएफ/प्रतीकात्मक तस्वीर (Photo Credits: ANI)

कोलकाता, 24 सितंबर भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को बृहस्पतिवार को चुनौती दी है कि वह साबित करें कि कृषि क्षेत्र से संबंधित दो विधेयक किसानों को नुकसान पहुंचाएंगे। संसद ने हाल में इन विधेयकों को पारित किया है।

विजयवर्गीय ने आरोप लगाया कि संसद में विधेयकों के पारित होने के बाद तृणमूल कांग्रेस बेचैन हो गई, क्योंकि पार्टी बिचौलियों को संरक्षण देती है जो किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) से वंचित करते हैं और उनका मुनाफा छीन लेते हैं।

यह भी पढ़े | किंग्स इलेवन पंजाब ने RCB को 97 रन से हराया: 24 सितंबर 2020 की बड़ी खबरें और मुख्य समाचार LIVE.

तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ने दावा किया है कि विधेयक किसानों को एमएसपी से वंचित करेंगे और देश को भुखमरी की कगार पर ले जाएंगे।

विजयवर्गीय ने पश्चिम बर्धमान जिले के आसनसोल में संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘विधेयक के पारित होने के बाद, छोटे और हाशिए पर पड़े किसान अपनी उपज को देश में कहीं बेच सकते हैं और इससे उनकी आय में वृद्धि होगी।"

यह भी पढ़े | Sekhar Basu Dies of COVID-19: विख्यात परमाणु वैज्ञानिक शेखर बसु के निधन पर प्रधानमंत्री मोदी ने जताया शोक.

उन्होंने आरोप लगाया कि इससे तृणमूल कांग्रेस का नेतृत्व चिंतित हो गया, क्योंकि राज्य के विभिन्न हिस्सों में पार्टी द्वारा समर्थित सोसाइटी बहुत कम दाम पर सीधे किसानों से उपज खरीदती हैं।

विजयवर्गीय ने आरोप लगाया, " अगर किसानों का उत्पीड़न रुकता है तो ममता बनर्जी की पार्टी गुस्सा हो जाएगी। वे किसानों की परेशानियों पर सिर्फ बयान देते हैं।"

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)