विदेश की खबरें | प्लास्टिक संकट की कॉर्पोरेट जड़ें गहरी हैं: ग्रह की रक्षा के लिए, उन्हें उजागर करना जरूरी
श्रीलंका के प्रधानमंत्री दिनेश गुणवर्धने

वारविक, पांच अगस्त (द कन्वरसेशन) इस वसंत में, मैंने पर्यावरण समाजशास्त्र में एक नया स्नातक पाठ्यक्रम पढ़ाया। मेरे अधिकांश छात्रों ने पाठ्यक्रम लिया क्योंकि वे यह देखने के लिए उत्सुक थे कि अधिक स्थायी रूप से जीने की उनकी इच्छा का समाजशास्त्र से क्या लेना-देना है।

तीसरे सप्ताह तक - जीवाश्म पूंजीवाद (जीवाश्म ईंधन पर पूंजीवाद की निर्भरता), कचरा उपनिवेशवाद (अन्य देशों के बीच खतरनाक कचरे का अन्यायपूर्ण अंतर्राष्ट्रीय व्यापार और निपटान) और पर्यावरणीय अन्याय के बीच परेशान करने वाले संबंधों के बारे में गहरेाई से जानने के बाद - कुछ छात्रों ने निराशा से कहा कि उन्होंने सोचा था कि पाठ्यक्रम अधिक आशावादी होगा।

चौथे सप्ताह के दौरान, हमने जीवाश्म ईंधन कंपनियों की जलवायु को नकारने और धोखे के लिखित इतिहास के साथ-साथ तंबाकू, सीसा और रासायनिक उद्योगों से संबंधित ‘‘धोखा और इनकार’’ रणनीति का पता लगाया। ‘‘क्या आपको लगता है कि यह वास्तव में सच है?’’एक छात्र ने मुझसे विनती करते हुए पूछा।

‘‘क्या आपको लगता है कि व्यवसाय वास्तव में इतने अस्थिर हैं और कभी नहीं बदलेंगे?’’

मैं हिचकिचाया। मैं चाहता था कि मेरे छात्र जटिल पर्यावरणीय समस्याओं पर एक महत्वपूर्ण समाजशास्त्रीय दृष्टिकोण से विचार करें, लेकिन मैं उन्हें निराशावादी रास्ते पर नहीं ले जाना चाहता था। ‘‘देखो,’’ मैंने स्वीकार करने वाली मुद्रा में उसे बताया, ‘‘मैंने प्लास्टिक उद्योग के बारे में उपशीर्षक के साथ एक किताब लिखी थी’’ कि ‘कैसे निगम पारिस्थितिक संकट को बढ़ावा दे रहे हैं और हम इसके बारे में क्या कर सकते हैं'।

जब आप सामाजिक और पर्यावरणीय रूप से हानिकारक उद्योगों की हठ को प्रत्यक्ष रूप से देखते हैं तो निराशावाद से बचना कठिन होता है।

2019 की शुरुआत में, मैंने समुद्री प्लास्टिक संकट के मद्देनजर एक प्लास्टिक उद्योग सम्मेलन में भाग लिया, जो प्लास्टिक पर समुद्री वन्यजीवों की घुटन की वायरल छवियों पर सार्वजनिक आक्रोश से प्रेरित था।

संकट ने प्लास्टिक से संबंधित निगमों से तीव्र प्रतिक्रिया को प्रेरित किया, जिन्होंने अधिक उत्पादन के बजाय कूड़े और कचरे के मामले में समस्या पर विचार करने का प्रयास किया।

सम्मेलन में एक कॉर्पोरेट कार्यकारी ने कहा, ‘‘हमें महासागरों में प्लास्टिक की छवि को जनता के दिमाग से बाहर निकालने की जरूरत है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमें प्लास्टिक को फिर से शानदार बनाने की जरूरत है।’’

द्वितीय विश्व युद्ध के बाद दुनिया भर में प्लास्टिक उत्पादन में नाटकीय वृद्धि के बाद से, पेट्रोकेमिकल और प्लास्टिक कंपनियों ने प्लास्टिक उत्पादों की मांग पैदा करके, खतरनाक जोखिमों से इनकार करते हुए और उपभोक्ताओं पर प्रदूषण के दोष को स्थानांतरित करके अपने बाजारों का विस्तार करने और उनकी रक्षा करने का काम किया है।

और प्लास्टिक प्रदूषण (और विनियमों) के बारे में जन जागरूकता बढ़ने के बावजूद, वैश्विक प्लास्टिक संकट केवल बदतर होता जा रहा है।

मेरी नई किताब, प्लास्टिक अनलिमिटेड, इस संकट की कॉर्पोरेट जड़ों पर प्रकाश डालती है। इसमें, मैंने बड़े तेल, बड़े तंबाकू, और हाल ही में, बड़े प्लास्टिक उद्योग द्वारा उपयोग की जाने वाली ‘‘कॉर्पोरेट प्लेबुक’’ की अवधारणा पर प्रकाश डाला है।

कॉरपोरेट प्लेबुक में अक्सर विवादास्पद उद्योगों द्वारा अपने उत्पादों के हानिकारक प्रभावों को छिपाने या उन्हें संदेह में रखने के लिए उपयोग की जाने वाली रणनीतियों की एक सामान्य सूची होती है।

इन रणनीतियों पर अमल करने वाले उद्योगों को ‘‘संदेह के व्यापारी’’ करार दिया गया है और उन पर धूम्रपान के स्वास्थ्य जोखिमों को कम करने से लेकर जलवायु परिवर्तन से इनकार करने तक के अपराधों का आरोप लगाया गया है।

जैसा कि शोधकर्ता डेविड माइकल्स ने कुछ उत्पादों पर संदेह करने वाले अपने शोध में लिखा है, ‘‘प्लास्टिक उद्योग द्वारा विज्ञान में उतना ही हेरफेर किया गया था, जितना उनके हित में था।’’ उन्होंने जो शोध किया था उसमें तंबाकू उद्योग भी शामिल था।

माइकल्स 1960 और 1970 के दशक के विनाइल क्लोराइड घोटालों का जिक्र कर रहे थे, जब प्रमुख रासायनिक कंपनियों ने रासायनिक संयंत्रों में श्रमिकों पर विनाइल क्लोराइड मोनोमर के विषाक्त स्वास्थ्य प्रभावों के बारे में सबूत छिपाने की साजिश रची थी।

इस बड़ी इंडस्ट्री का ट्रैक रिकॉर्ड आज भी कायम है। इसने असंख्य पेट्रोकेमिकल्स और प्लास्टिक उत्पादों के जहरीले खतरों से इनकार किया है, जलवायु के संबंध में दुष्प्रचार अभियान को धन दिया, रीसाइक्लिंग की प्रभावशीलता के बारे में जनता को गुमराह किया, और पर्यावरण नियमों को विफल करने और उनमें देरी करने की पैरवी की। महामारी के दौरान, इसने एकल-उपयोग वाले प्लास्टिक बैग को ‘‘स्वच्छता विकल्प’’ के रूप में बढ़ावा देने की भी पैरवी की।

प्रमुख कोर्पोरेट भी आक्रामक रणनीति का उपयोग करते हैं, जिसमें हरित तकनीक में तथाकथित नवप्रवर्तकों के रूप में उनकी भूमिका पर ध्यान देना शामिल है।

उदाहरण के लिए, वृत्ताकार अर्थव्यवस्था को लें। यह एक महान विचार की तरह लगता है कि एक ‘‘टेक-मेक-वेस्ट’’ अर्थव्यवस्था से एक में स्थानांतरित करके कचरे को खत्म करने का प्रयास किया जाता है जिसमें मौजूदा सामग्रियों का यथासंभव लंबे समय तक पुन: उपयोग किया जाता है।

लेकिन, महत्वपूर्ण रूप से, प्लास्टिक के लिए कोई वैश्विक या राष्ट्रीय नीतिगत दृष्टिकोण इतना आगे नहीं जाता है कि प्लास्टिक उत्पादन को पूरी तरह से सीमित कर दे।

वास्तव में, प्लास्टिक उद्योग सर्कुलर अर्थव्यवस्था के सबसे कमजोर रूप को बढ़ावा देता है - रीसाइक्लिंग - जिसका अर्थ है कि प्लास्टिक का उत्पादन जारी रह सकता है, इस वास्तविकता के बावजूद कि रीसाइक्लिंग बिन में जाने वाली अधिकांश वस्तुओं को जला दिया जाएगा या फेंक दिया जाएगा।

इससे भी बड़ी बात यह है कि पुनर्चक्रण बहुत अधिक ऊर्जा का उपयोग करता है। उदाहरण के लिए, रासायनिक पुनर्चक्रण में प्लास्टिक को उनकी मूल आणविक अवस्था में फिर से उपयोग करने के लिए वापस लाना शामिल है। यद्यपि इसे प्लास्टिक संकट के समाधान के रूप में प्रचारित किया जाता है, यह एक जहरीली, कार्बन-गहन प्रक्रिया है जो प्रभावी रूप से भस्मीकरण के समान है।

यहां कुछ अच्छी खबरें हैं: मार्च 2022 में, नैरोबी में संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण सभा ने संकट को दूर करने के लिए एक नई वैश्विक संधि के लिए एक जनादेश पर सहमति व्यक्त की। जहरीले प्लास्टिक प्रदूषण को रोकने के लिए कानूनी रूप से बाध्यकारी उपाय बनाने की दिशा में यह एक ऐतिहासिक उपलब्धि थी।

कई वैज्ञानिक, कार्यकर्ता और संगठन इस बात पर जोर देते हैं कि किसी भी परिणामी संधि में प्लास्टिक उत्पादन पर एक सीमा अवश्य शामिल होनी चाहिए। हालाँकि, उत्पादन के बजाय कचरे पर ध्यान केंद्रित करने वाले नियमों को ध्यान में रखते हुए व्यवसायों के निहित स्वार्थों के साथ, बातचीत चुनौतीपूर्ण होगी।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)