विदेश की खबरें | निदेशक के कथित नस्लवाद, दुर्व्यवहार की डब्ल्यूएचओ की जांच पर नजर रखेगा जापान

पिछले अक्टूबर में दर्ज एक आंतरिक शिकायत के अनुसार, डब्ल्यूएचओ के कर्मचारियों ने आरोप लगाया है कि पश्चिमी प्रशांत क्षेत्र में संयुक्त राष्ट्र स्वास्थ्य एजेंसी के शीर्ष निदेशक डॉ. ताकेशी कसाई ने अनैतिक, नस्लवादी और अपमानजनक व्यवहार करते हुए कोरोनो वायरस महामारी पर अंकुश लगाने के उनके प्रयासों को कमजोर किया।

शिकायतों को पिछले सप्ताह डब्ल्यूएचओ के वरिष्ठ अधिकारियों को भी ईमेल किया गया था और फिलीपींस में डब्ल्यूएचओ के क्षेत्रीय मुख्यालय में “प्रणालीगत धमकाने वाली संस्कृति” के साथ “विषाक्त वातावरण” वाले माहौल का उल्लेख किया गया। ‘द एसोसिएटेड प्रेस’ द्वारा प्राप्त रिकॉर्डिंग से यह भी पता चला है कि कसाई, जो चीन और जापान सहित एक विशाल क्षेत्र के प्रमुख हैं, ने राष्ट्रीयता के आधार पर बैठकों के दौरान अपने कर्मचारियों के लिए अपमानजनक टिप्पणी की।

कसाई ने हालांकि आरोपों से इनकार किया है।

प्रधानमंत्री कार्यालय में सार्वजनिक मामलों के उप कैबिनेट सचिव कोइचिरो मात्सुमोतो ने शुक्रवार को ‘एपी’ को बताया कि सरकार समझती है कि डब्ल्यूएचओ उचित कदम उठा रहा है और जापान डब्ल्यूएचओ की जांच को ध्यान से देखने की योजना बना रहा है।

मात्सुमोतो ने इस बात से इनकार किया कि जापान सरकार ने कसाई से अनुचित रूप से संवेदनशील टीके की जानकारी प्राप्त की थी जिसे उसने कथित तौर पर अपने पद का दुरुपयोग करके प्राप्त किया था।

उन्होंने कहा, “इसमें (आरोपों में) कोई सच्चाई नहीं है कि जापान सरकार ने टीके से संबंधित संवेदनशील जानकारी को अनुपयुक्त रूप से प्राप्त किया है।”

एपी

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)