देश की खबरें | क्या यह अघोषित आपातकाल नहीं है: राकांपा ने मीडिया घराने के खिलाफ आयकर छापों पर सवाल किया

मुंबई, 22 जुलाई राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) ने बृहस्पतिवार को मीडिया समूह दैनिक भास्कर के खिलाफ आयकर विभाग की छापेमारी की आलोचना की और कहा कि लोगों को यह जानने की जरूरत है कि क्या यह "अघोषित आपातकाल" नहीं है।

राकांपा ने यह भी कहा कि इस मीडिया घराने ने ‘‘उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की विफलताओं की निडरता से खबर दी थी।’’

आयकर विभाग ने बृहस्पतिवार को कर चोरी के आरोप में दैनिक भास्कर और उत्तर प्रदेश स्थित हिंदी समाचार चैनल ‘भारत समाचार’ के खिलाफ कई शहरों में छापेमारी की। दैनिक भास्कर के मामले में भोपाल, जयपुर, अहमदाबाद, नोएडा और देश के कुछ अन्य स्थानों पर छापेमारी की जा रही है।

राकांपा के प्रवक्ता एवं महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक ने ट्वीट किया, ‘‘चूंकि पेगासस स्पाइवेयर के माध्यम से जासूसी की खबर सार्वजनिक की गई थी, इसलिए केंद्र सरकार ने उन लोगों को निशाना बनाना शुरू कर दिया है जो उन्हें उजागर कर रहे हैं। नवीनतम पीड़ित दैनिक भास्कर है, वे निडर होकर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ की विफलताओं के बारे में खबर दे रहा है और इस मीडिया घराने की आवाज को दबाने और सच्चाई को छिपाने के लिए, उन पर आयकर द्वारा छापा मारा जा रहा है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘यहां तक ​​कि समाचार चैनल भारत समाचार और उसके संपादक ब्रजेश के खिलाफ भी छापेमारी की जा रही है जो जो इन छापों को उजागर कर रहे थे।’’

उन्होंने कहा, ‘‘क्या यह अघोषित आपातकाल नहीं है? क्या यह अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की हत्या नहीं है? क्या यह लोकतंत्र का डेथ वारंट नहीं है? भारत और यहां के लोगों को जवाब चाहिए।’’

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)