विदेश की खबरें | हिरोशिमा ने परमाणु हमले की 77वीं बरसी पर एटमी हथियारों पर प्रतिबंध का आह्वान किया
श्रीलंका के प्रधानमंत्री दिनेश गुणवर्धने

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख समेत अन्य अधिकारियों ने परमाणु हथियारों के निर्माण को लेकर चेताया क्योंकि यूक्रेन पर रूसी सैन्य कार्रवाई के बीच परमाणु हमले की आशंका बढ़ गई है।

‘हिरोशिमा पीस पार्क’ में आयोजित प्रार्थना सभा में शामिल हुए संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुतारेस ने कहा, ‘‘परमाणु हथियार बकवास हैं। वे किसी सुरक्षा की गारंटी नहीं देते, बल्कि केवल मौत और विनाश के दाता हैं।’’

उन्होंने कहा कि एक सदी के तीन चौथाई समय बीतने के बाद पूछा जाना चाहिए कि 1945 में इस शहर पर हुए परमाणु हमले से क्या सीख ली गई?

इस मौके पर हिरोशिमा के मेयर कजूमी मत्सुई ने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन पर ‘‘उनके अपने लोगों को युद्ध का हथियार बनाने और दूसरे देश के लोगों की जान लेने और आजीविका छीनने’’ का आरोप लगाया।

अमेरिका ने छह अगस्त, 1945 को हिरोशिमा पर दुनिया का पहला परमाणु बम गिराया, जिससे शहर में भारी तबाही हुई और करीब 1,40,000 लोग मारे गए। अमेरिका ने तीन दिन बाद नागासाकी शहर पर दूसरा बम गिराया, जिसमें 70,000 लोगों की जान चली गई।

एपी

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)