जरुरी जानकारी | जी एंटरटेनमेंट के संस्थापकों की भूमिका पर मतभेदों के कारण विलय योजना छोड़ी थी: रिलायंस

नयी दिल्ली, 13 अक्टूबर रिलायंस इंडस्ट्रीज ने बुधवार को कहा कि उसने कुछ महीने पहले ज़ी एंटरटेनमेंट के साथ अपनी मीडिया संपत्तियों के विलय का प्रस्ताव रखा था लेकिन संस्थापकों की हिस्सेदारी को लेकर मतभेदों के उसने इस प्रस्ताव को छोड़ दिया था।

अरबपति मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस की तरफ से यह बयान जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड की सबसे बड़ी शेयरधारक इनवेस्को के बयान के बाद आया है।

रिलायंस ने एक बयान में कहा, ‘‘फरवरी/मार्च 2021 में इनवेस्को ने हमारे प्रतिनिधियों और जी एंटरटेनमेंट के प्रबंध निदेशक एवं प्रवर्तक परिवार के सदस्य पुनीत गोयनका के बीच सीधे चर्चा की व्यवस्था करने में रिलायंस की सहायता की थी।’’

उसने कहा, ‘‘हमने ज़ी एंटरटेनमेंट और अपनी सभी संपत्तियों के उचित मूल्यांकन पर ज़ी के साथ अपनी मीडिया संपत्तियों के विलय के लिए एक व्यापक प्रस्ताव रखा था।’’

रिलायंस गोयनका सहित मौजूदा प्रबंधन को बनाए रखना चाहती थी, जिसे हटाने की मांग ज़ी एंटरटेन्मेंट की सबसे बड़े शेयरधारक इनवेस्को ने की है।

रिलायंस इंडस्ट्रीज ने कहा, ‘‘हम हमेशा निवेश करने वाली कंपनियों के मौजूदा प्रबंधन को जारी रखने का प्रयास करता है और उन्हें उनके प्रदर्शन के लिए पुरस्कृत करते हैं। प्रस्ताव में गोयनका को प्रबंध निदेशक के रूप में जारी रखना और गोयनका समेत प्रबंधन को इसॉप जारी करना शामिल था।’’

जतिन

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)