देश की खबरें | मध्यप्रदेश में नशामुक्त गांव को दो लाख रुपये का पुरस्कार दिया जाएगा: चौहान

भोपाल, 27 जून मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को ऐलान किया कि प्रदेश में नशामुक्त गांव को दो लाख रुपये का पुरस्कार प्रदान किया जाएगा।

चौहान ने यहां मुख्यमंत्री निवास परिसर में निर्विरोध निर्वाचन द्वारा समरस पंचायतों का गठन करने वाले प्रतिनिधियों के अभिनंदन समारोह को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘प्रदेश में वर्तमान में चल रहे त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में 630 सरपंच, 157 जनपद पंचायत सदस्य और एक जिला पंचायत सदस्य निर्विरोध निर्वाचित हुए हैं।’’

उन्होंने कहा कि इन पंचायतों को समरस पंचायत कहा गया है। चौहान ने कहा, ‘‘समरस पंचायतों में नशामुक्ति का अभियान चलाया जाए। नशामुक्त गांव को विशेष रूप से दो लाख रुपये का पुरस्कार प्रदान किया जाएगा।’’

चौहान ने कहा कि किसी भी पंचायत में सरपंच का निर्वाचन निर्विरोध रूप से होने पर पांच लाख रुपये, सरपंच पद के लिए वर्तमान और पिछला निर्वाचन निरंतर निर्विरोध होने पर सात लाख रुपये तथा सभी पंच और सरपंच निर्विरोध निर्वाचित होने पर सात लाख रुपये की प्रोत्साहन राशि प्रदान की जाएगी।

इसी प्रकार पंचायत में सरपंच एवं पंच के सभी पदों पर महिलाओं का निर्वाचन होने पर पंचायत को 12 लाख रुपये और पंचायत में सरपंच एवं पंच के सभी पदों पर महिलाओं का निर्वाचन निर्विरोध होने पर पंचायत को 15 लाख रुपये की प्रोत्साहन राशि प्रदान की जाएगी।

उन्होंने कहा कि ग्राम को नशा मुक्त बनाने के लिए आपसी बातचीत और विभिन्न प्रेरणास्पद गतिविधियों से वातावरण निर्मित किया जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि समरस पंचायतों सहित सभी पंचायतों में बेटियों का मान, सम्मान और इज्जत बढ़े और बेटा-बेटी को बराबर माना जाए।

चौहान ने कहा कि मां, बहन, बेटी की तरफ गलत नजर से देखने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। उन्होंने कहा कि समरस पंचायतों को अपने काम से पूरे देश में उदाहरण प्रस्तुत करना है। उन्होंने कहा कि हम यह सुनिश्चित करें कि हमारी पंचायत में कोई बच्चा कुपोषित नहीं रहे।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)