देश की खबरें | असम नौका हादसा : मुख्यमंत्री ने लिया यात्रियों की सुरक्षा का जायजा

गुवाहाटी, 15 सितंबर मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने असम के निमाती घाट पर ब्रह्मपुत्र नदी के रास्ते माजुली और जोरहाट के बीच आने-जाने वाले यात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए उठाए गए कदमों का बुधवार को निरीक्षण किया।

दरअसल, कुछ दिन पहले ब्रह्मपुत्र नदी में हुए एक नौका हादसे में तीन लोगों की मौत हो गयी थी।

मुख्यमंत्री ने नौका दुर्घटना स्थल के अपने दूसरे दौरे पर संवाददाताओं से कहा कि अंतर्देशीय जल परिवहन (आईडब्ल्यूटी) ने गहन निरीक्षण के बाद जोरहाट और माजुली के बीच संचालन के लिए दो रो-पैक्स जहाजों की सेवाएं उपलब्ध कराई हैं।

रो-पैक्स यात्री नौका के साथ मालवाहक वाहन के रूप में काम करता है।

सरमा ने घोषणा की कि दो और जहाज एमवी राज लक्ष्मी और एमवी डिगारू अगले दो दिनों के भीतर माजुली पहुंचेंगे, जबकि कुछ दिनों के भीतर एक कटमरैन को भी सेवा में लगाया जाएगा।

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री ने इस नौका हादसे के एक दिन बाद नौ सितंबर को दुर्घटनास्थल के अपने पहले दौरे के समय पुलिस को नाव पलटने के संबंध में आपराधिक मामला दर्ज करने का आदेश दिया था।

सरमा ने कहा, '' केवल एक इंजन वाली नौकाएं, जिनकी सेवाएं दुर्घटना के बाद निलंबित कर दी गई थीं, उनमें समुद्री इंजन लगाए जाएंगे, लेकिन इसमें समय लगेगा। हम इन नौकाओं के संचालन की अनुमति तब तक नहीं दे सकते जब तक कि उनमें समुद्री इंजन नहीं लग जाते। क्योंकि हम लोगों के जीवन से समझौता नहीं कर सकते हैं।''

जोरहाट-माजुली पुल के निर्माण का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि अभी कागजी काम किया जा रहा है जबकि निर्माण कार्य नवंबर से शुरू होगा।

जोरहाट जिले के निमाती घाट के पास आठ सितंबर की शाम को एक सरकारी नौका से आमने-सामने की टक्कर के बाद एक निजी नौका ब्रह्मपुत्र नदी में पलटने के बाद डूब गयी थी। उस नौका में 92 लोग सवार थे।

जोरहाट पुलिस द्वारा दर्ज एक मामले में नौका के मालिक और आईडब्ल्यूटी विभाग के छह कर्मचारियों समेत 12 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)