जरुरी जानकारी | श्रेई के सीईओ राकेश भूटोरिया का इस्तीफा

नयी दिल्ली, 14 सितंबर कोलकाता की गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी (एनबीएफसी) श्रेई इन्फ्रास्ट्रक्चर को एक और झटका लगा है। कंपनी के मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) राकेश कुमार भूटोरिया ने इस्तीफा दे दिया है। सूत्रों ने मंगलवार को यह जानकारी दीं

इस समय कंपनी ऋण समाधान प्रक्रिया में है। कोविड-19 महामारी के दौरान लॉकडाउन से कंपनी की वित्तीय स्थिति बुरी तरह प्रभावित हुई थी।

इसके बाद अपने बकाया की वसूली के लिये ऋणदाताओं ने कंपनी के वित्त पर नियंत्रण ले लिया था। इससे श्रेई समूह से बड़े पैमाने पर लोगों द्वारा नौकरी छोड़ने का सिलसिला शुरू हो गया। कंपनी में वेतन में विलंब तो एक सामान्य बात हो गई है। कंपनी के शीर्ष स्तर के कार्यकारियों के वेतन की सीमा 50 लाख रुपये सालाना तय की गई है।

इस मामले की जानकारी रखने वाले सूत्रों ने कहा, ‘‘सीईओ राकेश कुमार भूटोरिया ने श्रेई से इस्तीफा दे दिया है। कंपनी के शीर्ष स्तर के कर्मचारी अपने बकाया वेतन को पाने के लिए कानूनी विकल्प पर विचार कर रहे हैं। बैंकों ने ‘ट्रस्ट एंड रिटेंशन खाते’ (टीआरए) पर नियंत्रण के जरिये इसे रोका हुआ है।

भूटोरिया का अंतिम कामकाज का दिन अभी तय नहीं हुआ है। सूत्रों ने बताया कि नए सीईओ की तलाश के लिए कंपनी ने एक ‘हेडहंटर’ की नियुक्ति की है।

अजय

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)