जरुरी जानकारी | पारा चढ़ने के साथ दिल्ली में बिजली मांग बढ़कर 6,499 मेगावाट पर पहुंची

नयी दिल्ली, 10 जून उमस भरी गर्मी के साथ दिल्ली में बृहस्पतिवार को दोपहर में बिजली की अधिकतम मांग बढ़कर 6,499 मेगावाट पर पहुंच गयी। इस गर्मी में बिजली की यह सर्वाधिक मांग है।

बिजली वितरण कंपनियों के अधिकारियों के अनुसार दिल्ली में बिजली की अधिकतम मांग बुधवार रात को 6,329 मेगावाट पहुंच गयी जो पिछले साल की अधिकतम मांग 6,314 मेगावाट से अधिक है।

राज्य भार प्रेषण केंद्र के वास्तविक समय पर उपलब्ध आंकड़े के अनुसार बृहस्पतिवार को दोपहर 3.10 बजे दिल्ली में बिजली की अधिकतम मांग 6,499 मेगावाट पर पहुंच गयी।

अधिकारियों के अनुसार दिल्ली की बिजली की अधिकतम मांग 48 घंटे में 10 प्रतिशत से अधिक जबकि एक जून के बाद 40 प्रतिशत से ज्यादा बढ़ गयी है। इसका मुख्य कारण कोविड महामारी की रोकथाम के लिये लगाये गये ‘लॉकडाउन’ में ढील तथा उमस भरी गर्मी है।

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में बिजली वितरण कर रही बीएसईएस राजधानी पावर लि. (बीआरपीएल), बीएसईएस यमुना पावर लि. (बीवाईपीएल) तथा टाटा पावर डीडीएल ने सफलतापूर्व क्रमश: 2,842 मेगावट, 1,464 मेगावाट और 1,938 मेगावाट की आपूर्ति कर अधिकतम मांग को पूरा किया।

अधिकारियों के अनुसार पिछले साल ‘लॉकडाउन’ के कारण दिल्ली में बिजली की अधिकतम मांग 6,314 मेगावाट 29 जून, 2020 को दर्ज की गयी थी। यह दो जुलाई, 2019 के अब तक के सर्वाधिक 7,409 मेगावाट मांग के मुकाबले काफी कम है।

(यह सिंडिकेटेड न्यूज़ फीड से अनएडिटेड और ऑटो-जेनरेटेड स्टोरी है, ऐसी संभावना है कि लेटेस्टली स्टाफ द्वारा इसमें कोई बदलाव या एडिट नहीं किया गया है)